1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

प्रदर्शन में प्यार, सड़क पर शादी

उसने अपनी नौकरी उस क्रांति के लिए छोड़ दी जो देश में शासन के खिलाफ चल रही है. वह प्रदर्शन के दौरान घायल हुई, एक नौजवान ने इलाज किया, दोनों में प्यार हुआ और फिर दो महीने बाद शादी.

यह कहानी बॉलीवुड में हिट हो सकती है. लेकिन यह कीव के स्वतंत्रता चौराहे पर घटी सच्ची घटना है. यूक्रेन की राजधानी कीव में सरकार के खिलाफ चल रहे प्रदर्शन के अलावा रिश्ते भी बन रहे हैं, प्यार भी परवान चढ़ रहा है. छोटे छोटे टेंटों में प्रेम कहानियां लिखी जा रही हैं.

इस कहानी की शुरुआत दिसंबर में होती है, जब यूलिया सर्को पश्चिम यूक्रेन में अपना घर छोड़ विरोध प्रदर्शन के लिए कीव आती है. यूक्रेन में उस दौरान राष्ट्रपति के उस फैसले के खिलाफ गुस्सा उबाल पर था जिसमें उन्होंने यूरोपीय संघ के साथ समझौता करने से ठीक पहले अपने हाथ खींच लिए. पतली दुबली और स्टाइलिस्ट सी दिखने वाली 25 वर्षीय यूलिया कहती हैं, "मैं इस अव्यवस्था और सत्ता में माफिया की वजह से दुखी थी."

प्रदर्शन भी प्यार भी

पिछले कई महीनों से यूक्रेन की राजधानी कीव के मैदान में प्रदर्शनकारी डटे हुए हैं. यूलिया भी यहां आ पहुंची और उन्होंने किचन में हाथ बंटाना शुरू कर दिया. जनवरी की एक रात पुलिस और प्रदर्शनकारियों को अलग करने वाला बड़ा पर्दा अचानक यूलिया पर गिर गया. पर्दे को लोहे और अन्य चीजों के सहारे लगाया था. इस हादसे में यूलिया का हाथ टूट गया. पास ही एक इमारत में प्रदर्शनकारियों ने अस्थाई अस्पताल बना रखा है. यूलिया उस अस्पताल में गई. 21 वर्षीय रसायन शास्त्र के छात्र बोगदान जबावचुक ने औषधीय मिश्रण तैयार कर उसका इलाज किया.

Ukraine Kiev Protest Anti Regierung

देश के अलग अलग हिस्सों से लोग कीव में मौजूद

जबावचुक उस पल को याद करते हैं, "एक खूबसूरत लड़की मेरे पास आती है और मुझे मदद करने को कहती है." अपनी बीवी के बगल बैठे वह मुस्कुराते हुए कहते हैं, "मैं उसका फोन नंबर लेना चाहता था लेकिन मैं उस वक्त व्यस्त था और वह भी चली गई." तीन दिन बाद वह उस किचन में गए जहां यूलिया काम कर रही थी. दोनों साथ बाहर गए और फिर जोड़ी बन गई. जबावचुक कहते हैं, "जान पहचान होने के चौथे दिन ही मुझे अनुभव हुआ कि इसी लड़की के साथ मैं अपनी पूरी जिंदगी बिता सकता हूं."

शादी का फैसला

जनवरी के आखिर में जब पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच हिंसा भड़की तो उस दौरान यूलिया अपने घर में थी. इस झड़प में जबावचुक भी घायल हो गए. उन्हें पसली में चोट लगी थी. यूलिया कीव जल्दी वापस आना चाहती थीं लेकिन जबावचुक नहीं चाहते थे कि वह आए. फिर एक दिन यूलिया ने कीव आने का फैसला किया. बस अड्डे पर जबावचुक उन्हें लेने गए. यूलिया को जबावचुक की चोट के बारे में तब पता चला जब सामान उठाने में जबावचुक को तकलीफ होने लगी.

अगले कुछ दिनों तक जबावचुक ने यूलिया के सामने अपने प्रेम का प्रस्ताव रखा. जब यूलिया समझ गई की मामला गंभीर है तो उसने हां कर दी और फिर दोनों ने शादी कर ली. शादी के एक दिन पहले यूलिया ने अपने परिवार को इस फैसले के बारे में बता दिया था, लेकिन जबावचुक ने ऐसा नहीं किया. जबावचुक के परिवार को न्यूज चैनल से शादी की खबर मिली. जबावचुक याद करते हैं कि उनकी मां ने उन्हें फोनकर बधाई दी. मां की आंखों में आंसू थे. शादी का जश्न कीव के उसी मैदान में हुआ जहां उनका प्यार परवान चढ़ा था.

गलीना और ओलेक्सांडर की भी मुलाकात इसी मैदान में हुई. वैलेंटाइन्स डे के दिन ये शादी के बंधन में बंध गए. इस बीच 21 वर्षीय यरोस्लावा और स्टास भी शादी कर रहे हैं. वे दोनों एक दूसरे को पिछले एक साल से जानते हैं. कुछ महीने पहले ही इन दोनों के बीच प्यार हुआ.

एए/एमजे (एएफपी)

DW.COM