1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

प्रदर्शन और उम्र को जोड़ कर देखना गलत: सचिन

37 साल की उम्र में पांचवा दोहरा शतक जड़ने वाले सचिन तेंदुलकर की बल्लेबाजी में पैनापन बरकरार है. मास्टर ब्लास्टर का कहना है कि बढ़िया प्रदर्शन का उम्र से कोई लेना देना नहीं है. दोनों बातों को जोड़ कर नहीं देखा जाना चाहिए.

default

गॉल में पहले टेस्ट में हार के बाद कोलंबो में श्रीलंका ने भारतीय टीम के सामने रनों का पहाड़ खड़ा कर दिया जिससे ऐसा लगा कि दबाव में टीम इंडिया बिखर जाएगी. लेकिन नाजुक मौके पर तेंदुलकर रूपी चट्टान का जोश, जज्बा और अनुभव टीम के लिए राहत की बयार लेकर आया. सचिन तेंदुलकर ने टेस्ट मैचों में अपना पांचवां दोहरा शतक बनाते हुए 203 रन की शानदार पारी खेली और भारत को ऐसी स्थिति में पहुंचा कर दम लिया जहां से मैच हारने की कोई संभावना ही नहीं थी.

ढलती उम्र में भी जानदार सचिन शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं लेकिन उनके मन में एक टीस भी है. उन्हें तब बुरा लगता है जब उनकी उम्र और खराब प्रदर्शन को लोग जोड़कर देखने लगते हैं. "जब तक आप मानसिक रूप से मजबूत हैं और मुश्किल परिस्थितियों में खेलने के लिए तैयार हैं, उम्र आपके लिए मायने नहीं रखती. मुझे लगता है कि अब उम्र के बारे में बात बंद कर देनी चाहिए. अगर मैं 37 साल की उम्र में दोहरा शतक बना सकता हूं तो फिर उम्र कोई मायने नहीं रखती."

Indischer Cricketspieler Sachin Tendulkar

20 साल से टेस्ट और वनडे क्रिकेट की दुनिया में दबदबा कायम रखने वाले सचिन ने टेस्ट मैचों में 48 शतक लगा चुके हैं. यानी टेस्ट शतकों के अर्धशतक में सिर्फ दो शतकों की कमी है. तेंदुलकर की पारी कोलंबो टेस्ट में भारत के लिए बेहद अहम साबित हुई लेकिन सचिन ने पहला टेस्ट खेल रहे सुरेश रैना और वीरेंद्र सहवाग की जमकर तारीफ की. रैना ने 120 रन की पारी खेली जबकि सहवाग सिर्फ एक रन से शतक बनाने में चूक गए.

"सुरेश रैना ने मेरे साथ अहम साझेदारी की और पूरा श्रेय उन्हीं को जाता है. जिस तरह की शुरुआत हमें सहवाग से मिली, वह भी मायने रखती है." पहला टेस्ट हारने के बाद भारत सीरिज में 1-0 से पीछे है और तेंदुलकर का कहना है कि टीम आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में नंबर वन टीम बने रहना चाहती है. लेकिन भारत अगर तीसरा और आखिरी टेस्ट हार जाती है तो फिर नंबर वन टीम का उसका सिंहासन डोल जाएगा. तेंदुलकर मानते हैं कि नंबर वन होना बहुत जरूरी है. टीम बेहद मुश्किल से वहां पहुंची है और उसे बरकरार रखना जरूरी है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: ओ सिंह