1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

प्यार की जंग लड़ता ईरानी युवा

वक्त बदल रहा है और वक्त के साथ साथ ईरान में युवा समाज को बदलने में लगे हैं. जवान लड़के लड़कियां शादी किए बिना ही साथ रह रहे हैं जबकि यह ईरान के कानून के खिलाफ है.

कई इस्लामी संगठन सरकार पर दबाव बनाने की कोशिश कर रहे हैं कि वह युवाओं में फैल रहे इस चलन पर लगाम लगाए. ईरान में इस्लामी कानून चलता है जिसके तहत शादी के बिना किसी के साथ रहने पर सजा भी हो सकती है. लेकिन युवा सरकार से टक्कर लेने को तैयार हैं. वे अपनी शर्तों पर जीना चाहते हैं. हालांकि अधिकतर जोड़े छिप कर साथ रहते हैं. ना तो वे अपने माता पिता को इसकी भनक लगने देते हैं और ना ही पड़ोसियों को. पड़ोसियों को पता चलने से केवल सामाजिक दबाव का ही डर नहीं रहता, बल्कि इसका भी कि वे पुलिस को बता देंगे.

पड़ोसियों की नजर

यह चलन बड़े शहरों में और यूनिवर्सिटी जाने वाले युवाओं में ज्यादा देखा जा रहा है. 22 साल की आतेफेह इंजीनीयरिंग कर रही हैं और पिछले दो साल से अपने बॉयफ्रेंड के साथ रह रही हैं, "जाहिर सी बात है, हर कोई नहीं जानता. हमारे दोस्त जानते हैं, लेकिन उनमें से भी अधिकतर अपने घर वालों के साथ ही रहते हैं." शादी से पहले किसी के साथ संबंध बनाना गैरकानूनी है और इसके लिए उन्हें सजा हो सकती है. यह बात आतेफेह भी जानती हैं. डॉयचे वेले से बात करते हुए उन्होंने कहा, "हमें पता है कि हम एक जोखिम उठा रहे हैं." हालांकि आतेफेह उन चुनिंदा लोगों में से है जिनके माता पिता को इस बारे में पता है, "वे जानते हैं, इसीलिए मुझे उतनी चिंता नहीं होती जितनी मेरे बाकी के दोस्तों को, जिनके मां बाप को कुछ भी नहीं पता. लेकिन हम फिर भी बहुत चौकस रहते हैं. जब हम बिल्डिंग से निकलते हैं तो इस बात का ख्याल रखते हैं कि कोई हमें देख ना रहा हो."

सामाजिक क्रांति

पैरिस स्थित समाज शास्त्र के प्रोफेसर साइद पेवांदी मानते हैं कि इस नए चलन के बारे में कुछ भी कहना मुश्किल है. डॉयचे वेले से बात करते हुए उन्होंने कहा कि युवा कानून और परम्पराओं को तोड़ कर समाज में एक क्रांति ला रहे हैं. पेवांदी के मुताबिक पिछले 25 सालों को देखा जाए तो कहा जा सकता है कि ईरान में बहुत से सामाजिक बदलाव आए हैं. पिछले दो दशकों के दौरान ईरान में जन्म दर गिरी है, लोगों की शादी करने की उम्र बढ़ी है और छोटे परिवारों का चलन भी बढ़ा है. साथ ही गैरशादीशुदा और तलाकशुदा लोगों की संख्या में भी इजाफा हुआ है.

परिवार से मतभेद

26 साल की साहेबे तेहरान में आर्किटेक्ट का काम करती हैं. पिछले चार साल से वह अपने माता पिता से अलग रह रही हैं. इस बीच वह अपने बॉयफ्रेंड के साथ भी रहीं पर यह उनके लिए आसान नहीं था, "दिक्कत यह है कि हमारा समाज परम्पराओं और आधुनिकता के बीच बंध गया है." साहेबे कहती हैं कि एक तरफ तो लोग बहुत खुले विचारों के हैं, एक रिश्ता टूटता है तो दूसरा जोड़ लेते हैं, लेकिन दूसरी तरफ वे पुराने ख्यालात भी हैं जिनके साथ वे बड़े हुए हैं, "इस वजह से आपसी मतभेद भी होते हैं."

29 साल के पुयान ने भी डॉयचे वेले से यही बात कही, "मैं अपने परिवार की मर्जी के खिलाफ अपनी गर्लफ्रेंड के साथ रहा रहा हूं. उन्होंने इस बात को नहीं स्वीकारा और इसका मुझ पर भी बुरा असर पड़ा. पुयान तेहरान में फिल्म निर्देशक हैं. वह मानते हैं कि पश्चिमी देशों की तुलना में ईरान में अपने प्रेमी के साथ रहना बहुत मुश्किल है क्योंकि समाज उसे बुरी नजर से देखता है.

समाज शास्त्री पेवांदी का मानना है कि सरकार भी इसके खिलाफ कुछ नहीं करना चाहती, "युवाओं में अपनी आजादी की इच्छा बहुत बड़ी है." आतेफेह इस स्वतंत्रता का जीता जागता उदाहरण हैं. वह कहती हैं, "मुझे लगता है कि सरकार इस बढ़ते चलन को अच्छी तरह समझती है और शायद वह जानबूझ कर इसे सहन भी कर रही है. हमारे देश में और इतनी सारी समस्याएं हैं कि शायद उन्हें लगता है कि अच्छा ही है कि युवा इन चक्करों में पड़े हैं और देश में दूसरे बदलाव करने में नहीं लगे."

रिपोर्ट: याल्दा जरबख्श/ आईबी

संपादन: आभा मोंढे

DW.COM

WWW-Links

संबंधित सामग्री