1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

पोप से मदद मांगता ईरानी युवा

ईरान के एक युवक ने पोप से दरयाफ्त की है कि उसकी मां को बचाया जाए. ईरान में इस युवक की मां को शादी के बाद अनैतिक संबंध बनाने का दोषी पाया गया है और पत्थर मार मार कर हत्या की सजा दी गई है.

default

वैटिकन रेडियो ने खबर दी है कि सज्जाद गादेरजादह ने सीधे पोप बेनेडिक्ट सोलहवें से अपील की है कि वे इस मामले में दखल दें और उसकी मां सकीना मोहम्मदी अस्तियानी को बचाया जाए.

इतालवी समाचार एजेंसी एकेआई ने भी इस खबर को जारी किया है. युवक आखिरी मौके पर पोप से अपील कर रहा है. वैटिकन ने कहा है कि कूटनीतिक चैनलों से इस मामले में दखल दिया जा सकता है.

वैटिकन प्रवक्ता फेडेरिको लोम्बार्डी ने कहा, "वैटिकन कई सालों से मौत की सजा का विरोध करता आया है. खास तौर पर इस क्रूर तरीके से दी जाने वाली सजा का." हालांकि उन्होंने कहा कि इस मामले में सीधे हस्तक्षेप नहीं किया जा सकता, बल्कि पिछले सालों में भी ऐसे मामलों में राजनयिक तंत्र से दखल दिया गया है.

Mostafaie auf der Pressekonferenz

अश्तियानी को बचाने की मुहिम

गादेरजादह ने अपनी अपील में अंतरराष्ट्रीय बिरादरी का भी शुक्रिया अदा किया है, जिसकी वजह से उसकी मां का मामला दुनिया के सामने आ पाया है. गादेरजादह ने कहा है कि इस मामले में उसने ईरान के राष्ट्रपति महमूद अहमदीनेजाद और धार्मिक नेता अयातुल्लाह खमेनई से भी संपर्क किया लेकिन उसे कोई जवाब नहीं मिला है.

कुछ दिनों पहले अस्तियानी का मामला सुर्खियों में तब आया, जब उनका नाम विवाहेतर संबंध की वजह से चर्चा में आया. उन्हें इस केस में मौत की सजा सुनाई गई है और उन्हें संगसार करने की बात कही गई है. संगसार के तहत पत्थर मार मार कर हत्या की जाती है. अस्तियानी पर अपने पति की हत्या में शामिल होने का भी आरोप है.

उनके वकील का दावा है कि अस्तियानी पर दबाव डाल कर उनसे जुर्म कबूलवाया गया. मामले के तूल पकड़ने के बाद वकील नॉर्वे चले गए हैं. पिछले हफ्ते फ्रांस की प्रथम महिला कार्ला ब्रूनी सारकोजी ने इस मामले का विरोध किया. इसके बाद ईरान में ब्रूनी के खिलाफ आपत्तिजनक रिपोर्टें छपीं. ईरान और फ्रांस दोनों ही सरकारों ने ब्रूनी से जुड़ी रिपोर्टों की निंदा की है.

रिपोर्टः डीपीए/ए जमाल

संपादनः एन रंजन

DW.COM

WWW-Links