1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

पोंटिंग ने कहा, मैं हूं बेस्ट

ऑस्ट्रेलिया के कप्तान रिकी पोंटिंग आलोचकों पर बरसे. पोंटिंग के मुताबिक उनकी कप्तानी की धार कुंद नहीं हुई है. कंगारू कप्तान के मुताबिक वह अपना काम कर रहे, ऐसे में जिसे जो कहना है कि कहे.

default

भारत के हाथों मिली करारी हार के बाद ऑस्ट्रेलियाई कप्तान रिकी पोंटिंग देश वापस लौट गए हैं. ऑस्ट्रेलियाई टीम इस वक्त अपने टेस्ट इतिहास में सबसे निचले दर्जे पर हैं. टेस्ट रैंकिंग में पहली बार टीम पांचवें नंबर पर खिसकी है. इस प्रदर्शन से वहां का मीडिया भी भड़का हुआ है. मीडिया के तीखे सवालों ने पोटिंग का स्वागत एयरपोर्ट पर किया. कप्तान ने भी खुलकर बहस को आगे बढ़ा दिया.

36 साल के पोंटिंग ने सिडनी एयरपोर्ट पर कहा, ''एक कप्तान के नाते मैं मुश्किल में घिरे साथी खिलाड़ियों की मदद करने की कोशिश करता रहता हूं. अगर इस काम को लेकर कोई मेरी आलोचना करता है तो मैं इसमें कुछ नहीं कर सकता.'' अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 68 शतक जड़ने वाले बल्लेबाज ने कहा कि वह अब भी टीम के बेहतरीन खिलाड़ी हैं और कप्तान भी. आंकड़ों को देखा जाए तो सचिन तेंदुलकर के बाद वह मौजूदा दौर के सबसे बड़े बल्लेबाज कहे जा सकते हैं.

Shane Warne

लेकिन आलोचना उनकी कप्तानी को लेकर हो रही है. भारत के खिलाफ दूसरे टेस्ट में फील्डिंग की सजावट को लेकर पोंटिंग की अलोचना हो रही है. उनके साथ मैदान और पबों में मस्ती करने वाले शेन वॉर्न भी पोंटिंग की आलोचना कर रहे हैं. अपने फैसलों का बचाव करते हुए पोंटिंग ने कहा, 'मुझे इसमें कोई शक नहीं है कि जब से मैंने कप्तानी संभाली है तब से बेहतर प्रदर्शन की कोशिश की है. मैं हर क्षेत्र में अच्छे प्रदर्शन करने की हमेशा कोशिश करता रहा हूं.''

आलोचक अब पोंटिंग को कप्तानी से हटाने की मांग कर रहे हैं. लेकिन आलोचक कप्तान के तौर पर दूसरे खिलाड़ी का नाम नहीं सुझा पा रहे हैं. माइकल क्लार्क टी-20 टीम के कप्तान हैं पर वह खुद बेहद खराब फॉर्म से जूझ रहे हैं.

रिपोर्ट: एजेंसियां/ओ सिंह

संपादन: आभा मोंढे

DW.COM

WWW-Links