1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

पॉल कॉलिंगवुड ने टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कहा

इंग्लैंड के बल्लेबाज पॉल कॉलिंगवुड टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कहने जा रहे हैं. इस वक्त वह सिडनी में एशेज सीरीज का आखिरी टेस्ट खेल रहे हैं जो उनके करियर का भी अखिरी टेस्ट होगा.

default

इंग्लैंड टीम के प्रवक्ता ने बताया कि 34 साल के कॉलिंगवुड ने टेस्ट क्रिकेट से संन्यास ले लिया है. लेकिन वह टी20 टीम के कप्तान बने रहेंगे. वह वनडे क्रिकेट खेलना भी नहीं छोड़ेंगे. और इसी साल भारत, बांग्लादेश और श्रीलंका में संयुक्त रूप से होने वाले वनडे वर्ल्ड कप में हिस्सा लेंगे.

Cricket England Australien

कॉलिंगवुड का टेस्ट करियर 2003 में श्रीलंका में शुरू हुआ. सात साल लंबे इस करियर में उन्होंने 68 मैच खेले. कॉलिंगवुड ने 4259 रन बनाए जिनमें 10 शतक शामिल हैं. उन्होंने 17 विकेट भी लिए. लेकिन पिछले कुछ समय से वह फॉर्म से बाहर हैं. पिछले 10 टेस्ट मैचों में उनका औसत महज 15.54 रहा है. इस सीरीज में तो उन्होंने सिर्फ 13.83 की औसत से रन बनाए हैं. उन्होंने कहा कि अब नौजवान खिलाड़ियों के लिए जगह खाली करने का वक्त आ गया है.

क्रिकेट बोर्ड की ओर से जारी रिलीज में कॉलिंगवुड ने कहा, "टेस्ट क्रिकेट में इंग्लैंड के लिए खेलना हमेशा मेरा सपना रहा. मैं भाग्यशाली रहा कि अपने टेस्ट करियर में मैंने कुछ अच्छे लम्हे देखे. मुझे गर्व है कि अपनी टीम के लिए मैंने हमेशा अपना बेहतरीन प्रदर्शन किया. लेकिन अब कुछ खास उपलब्धियां हासिल कर लेने के बाद मुझे लगता है कि टेस्ट क्रिकेट को विदा कहने का वक्त आ गया है. ऑस्ट्रेलिया में खेलकर एशेज को बचा पाने से ज्यादा संतोषजनक तो कुछ हो ही नहीं सकता."

बल्ले के साथ कॉलिंगवुड भले ही इस सीरीज में ज्यादा योगदान न दे पाए हों लेकिन उन्होंने अपनी फील्डिंग के दम पर बड़ा अंतर पैदा किया है. उन्होंने कई अहम कैच लेकर मैचों का रुख पलटने में अहम भूमिका निभाई. मंगलवार को उन्होंने माइक हसी का विकेट लेकर अपनी टीम को पांचवें टेस्ट में फ्रंट फुट पर ला दिया.

टेस्ट क्रिकेट में कॉलिंगवुड का सबसे अच्छा स्कोर 2006-07 की एशेज में रहा. तब उन्होंने 206 रन बनाए थे. हालांकि यह सीरीज इंग्लैंड 5-0 से हार गया था.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः महेश झा

DW.COM