1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

पूर्व पाक पीएम का बेटा आतंकियों से छुड़ाया गया

ठीक 3 साल पहले 9 मई को आतंकियों ने अली हैदर गिलानी को अगवा कर लिया था. बीच में एक बार उनका फोन आया था लेकिन वह कहां है यह पता नहीं चल पाया था. अब 3 साल बाद उसी तारीख को उन्हें अफगानिस्तान के गजनी से छुड़ाया गया.

अमेरिका और अफगानिस्तान की फौजों ने एक साझा ऑपरेशन में पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी के बेटे को अपहर्ताओं की कैद से रिहा करा लिया है. गिलानी के बेटे अली हैदर गिलानी को ठीक 3 साल पहले 9 मई 2013 को अगवा कर लिया गया था. उन्हें अफगानिस्तन के गजनी शहर में छुड़ाया गया. वह सकुशल बताए जाते हैं और उन्हें पाकिस्तान ले जाने के इंतजाम किए जा रहे हैं.

अफगानिस्तान में तैनात नाटो सेना के प्रवक्ता ने बताया कि ऑपरेशन के बारे में ज्यादा जानकारी बाद में दी जाएगी. अली हैदर गिलानी के भाई अब्दुल हैदर गिलानी ने बताया है कि उनके पिता इस वक्त अफगानिस्तान में हैं. उन्होंने कहा, ''मेरी अभी उनसे बात नहीं हुई है. मेरे पिता के पुष्टि कर देने के बाद ही मैं रिहाई के बारे में बता पाऊंगा क्योंकि पहले भी उनकी रिहाई की खबरें आई थीं लेकिन वे सच नहीं थीं.''

अली हैदर गिलानी 2013 में चुनाव प्रचार में लगे थे. चुनाव से दो दिन पहले 9 मई 2013 को उन्हें गोलीबारी के बीच अगवा कर लिया गया था. एक बाइक पर सवार दो हमलावरों ने पंजाब के मुल्तान में गिलानी के काफिले पर हमला किया. इस हमले में अली हैदर गिलानी के सचिव और एक बॉडीगार्ड की मौत हो गई थी जबकि चार लोग घायल हो गए थे. हमलावर एक काली होंडा कार में अली हैदर को लेकर फरार हो गए थे. बीते साल मई में अली हैदर ने अपने पिता पूर्व प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी को फोन किया था और बताया था कि वह सकुशल हैं.

दो महीने पहले ही पाकिस्तान के एक और राजनेता के बेटे को लंबे समय बाद रिहा कराया गया था. पंजाब के पूर्व गर्वनर दिवंगत सलमान तासीर के बेटे शाहबाज तासीर को मार्च में रिहा कराया गया था. वह पांच साल तक आतंकियों की कैद में रहे थे. शाहबाज तासीर ने हैदर गिलानी की रिहाई का स्वागत किया है. उन्होंने ट्विटर पर पाकिस्तानी झंडे की तस्वीर के साथ लिखा है, वेलकम बैक अली हैदर.

पाकिस्तान के विपक्षी दल पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के अध्यक्ष बिलावल भुटटो ने भी अली हैदर गिलानी की रिहाई पर ट्वीट किया है. उन्होंने लिखा है, ''यूसुफ रजा गिलानी को अफगानिस्तान में राजदूत से फोन आया है. एक सफल ऑपरेशन में उनके बेटे को रिहा करा लिया गया है. अल्हमदुलिल्लाह.''


यूसुफ रजा गिलानी मार्च 2008 में पाकिस्तान के वजीर ए आजम बने थे. 2012 में वहां की सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें तब के राष्ट्रपति के खिलाफ करप्शन के मामले दोबारा खोलने को कहा था. गिलानी ने ऐसा करने से इनकार कर दिया तो कोर्ट ने उन्हें बर्खास्त कर दिया था. बेटे के अपहरण के बाद उन्होंने शिकायत की थी कि धमकियों के बावजूद उन्हें सुरक्षा नहीं दी गई.

वीके/एमजे (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री