1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

पूर्व की ओर देखने जा रहे हैं मनमोहन

भारत की "पूर्व की ओर" देखो नीति को आगे बढ़ाने के मकसद से भारतीय प्रधानमंत्री तीन देशों की यात्रा पर जा रहे हैं. रविवार को मनमोहन सिंह जापान, मलयेशिया और वियतनाम के दौरे पर रवाना होंगे.

default

जापान और मलयेशिया का प्रधानमंत्री का दौरा द्विपक्षीय संबंधों के तहत होगा जबकि वियतनाम में वह आठवें आसियान सम्मेलन में हिस्सा लेंगे. आसियान का सम्मेलन 24 से 30 अक्तूबर के बीच होना है.

जापान यात्रा के दौरान भारतीय प्रधानमंत्री परमाणु सहयोग, व्यापार संबंध और संयुक्त राष्ट्र में सुधार जैसे मुद्दों पर बातचीत करेंगे. तोक्यो में वह जापानी प्रधानमंत्री नाओतो कान से मुलाकात करेंगे. वैसे दोनों देश पहले ही परमाणु सहयोग के मुद्दे बातचीत शुरू कर चुके हैं और जल्दी ही किसी बड़े समझौते पर पहुंच सकते हैं.

मनमोहन सिंह की तोक्यो यात्रा से पहले दोनों पक्ष आर्थिक साझेदारी समझौते पर पहुंचने की कोशिश में लगे हैं. दोनों देशों उम्मीद कर रहे हैं कि आने वाले समय में उनका आपसी व्यापार 10 गुना हो जाएगा. 2008-09 में भारत और जापान के बीच 12 अरब अमेरिकी डॉलर का व्यापार हुआ. सिंह और कान जी-4 देशों के समूह को दोबारा ऊर्जा देने पर भी बातचीत कर सकते हैं. संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का विस्तार इस यात्रा के दौरान अहम मुद्दा रहेगा क्योंकि दोनों देश स्थायी सदस्यता पाने की कोशिश कर रहे हैं. भारत हाल ही में इसका अस्थायी सदस्य चुना गया है.

मनमोहन सिंह और उनकी पत्नी गुरशरण कौर की मेहमान नवाजी जापानी राजा और उनकी पत्नी भी करेंगे. प्रधानमंत्री सिंह कई अन्य नेताओं, सांसदों और व्यापारियों से भी मिलेंगे. वहां से 26 अक्तूबर को वह तीन दिन के दौरे पर मलयेशिया रवाना हो जाएंगे.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः ओ सिंह

DW.COM

WWW-Links