1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

पुरुषों के गढ़ में मूर्तियां गढ़ती है चायना

दुर्गा पूजा की नगरी कोलकाता में मूर्तियां बनाने पर पुरुषों का एकछत्र राज है. लेकिन एक महिला कलाकार चायना पाल ने मूर्तियों को तराशने के साथ साथ पुरुषों के इस साम्राज्य में अपनी जगह भी तराशी है.

default

चायना पाल

कुमारटोली यानी कोलकाता स्थित मूर्तिकारों का सबसे बड़ा मोहल्ला. दुर्गापूजा सिर पर आने के साथ ही इस मोहल्ले की तंग गलियों में कलाकारों की व्यस्तता बेहद बढ़ गई है. वे दिन-रात मेहनत कर मूर्तियों को अंतिम रूप देने में जुटे हैं. इन गलियों से गुजरते हुए अचानक एक जगह नजर पड़ते ही लोग चौंक उठते हैं. एक बरामदे में महिला मूर्तिकार पूरी तन्मयता के साथ मूर्तियां गढ़ रही है. साढ़े तीन सौ मूर्तिकारों के मोहल्ले में यह अकेली महिला कलाकार है. नाम है चायना पाल. वह बीते सोलह वर्षों से तमाम देवी-देवताओं की मूर्तियां गढ़ रही है.

Indien Künstlerin Chayna Paul

कुमारटोली में मूर्तियां बनाने का काम सदियों से पुरुषों के हाथों में रहा है. यह काम करने वाले भी मानते हैं कि मूर्तियां बनाना महिलाओं के वश की बात नहीं है. लेकिन चायना ने अपनी मेहनत व लगन से इस धारणा को गलत साबित कर दिया है. खुद चायना के पिता भी मानते थे कि महिलाएं मूर्तियां नहीं बना सकतीं.

चायना कहती है कि मेरे पिता भी कहते थे कि मूर्तियां बनाना तुम्हारा काम नहीं है. लेकिन उनकी मौत के बाद जब पेट पालने की जिम्मेदारी कंधों पर आ गई तो मैंने यह काम शुरू कर दिया. वह बताती है कि शुरूआत में तो काफी दिक्कत हुई. लगता था कि मूर्तियां बना कर उनको कैसे और कहां बेचूंगी. लेकिन धीरे-धीरे सब कुछ समझ में आने लगा. दूसरे कलाकारों ने भी इस काम में काफी सहायता की.

Indien Künstlerin Chayna Paul

दरअसल, चायना का मूर्ति निर्माण के क्षेत्र में कदम रखना एक हादसा ही था. वर्ष 1994 में उसके मूर्तिकार पिता हेमंत कुमार पाल का दुर्गापूजा के ठीक दो सप्ताह पहले निधन हो गया. उस समय वे कई जगह मूर्तियां सप्लाई करने के आर्डर ले चुके थे. तब चायना, जो उस समय 23 साल की थी, ने इस कला के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं होने के बावजूद उन अधूरी मूर्तियों को पूरा कर ग्राहकों को समय पर भेजने का बीड़ा उठाया. उस समय तक चायना के दो भाई घर से अलग होकर दूसरी जगह काम कर रहे थे और दो बहनों की शादी हो चुकी थी.

शुरूआत में उसे बेहद दिक्कत हुई. उसने अपने पिता से यह कला नहीं सीखी थी. उसे सब कुछ नए सिरे से सीखना पड़ा. लेकिन अपनी मेहनत व लगन के बूते उसने जल्दी ही इस कला की तमाम बारीकियां सीख लीं. उसके बाद अब तक चायना के हाथ रुके नहीं हैं. वह अपने छोटे से घर में लगातार सपनों को सजीव बनाने में जुटी है.

चायना कहती है कि मौजूदा दौर में जब महिलाएं हर क्षेत्र में पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिला कर काम कर रही हैं तो मूर्ति बनाने में क्या दिक्कत है. यह तो एक कला है. चायना ज्यादा बड़ी मूर्तियां नहीं बनातीं. लेकिन उसकी बनाई मूर्तियां हाथोंहाथ बिक जाती हैं.

कुमारटोली के दूसरे कलाकार भी चायना के साहस व कला की प्रशंसा करते हैं. उसके पड़ोसी मूर्तिकार इंद्रजीत पाल कहते हैं कि वह पूरे मोहल्ले में अकेली महिला मूर्तिकार है. वह बहुत बढ़िया काम कर रही है. ग्राहकों को चायना की बनाई मूर्तियां बेहद पसंद हैं. यहां तमाम लोग उसका पूरा समर्थन करते हैं.

रिपोर्ट: प्रभाकर, कोलकाता

संपादन: महेश झा

DW.COM

WWW-Links