1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

पुतिन विरोधी को 5 साल जेल

रूस की एक अदालत ने राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन के विरोधी अलेक्सी नवालनी को गबन के आरोप में पांच साल जेल की सजा सुनाई है. इसके साथ ही उनकी राजनीति पर भी रोक लग गई.

किरोव के जज सर्गेई ब्लिनोव का कहना है कि नवालनी पर स्थानीय सरकार के डेढ़ करोड़ रुबल (करीब 5,00,000 डॉलर) के गबन का आरोप साबित हो रहा है. मामला उस वक्त का है, जब वे स्थानीय प्रशासन के लिए अवैतनिक सलाहकार का काम करते थे. उन पर लकड़ी के ठेके में धोखाधड़ी और गबन का आरोप लगा.

हाल के दिनों में 37 साल के नवालनी एक ताकतवर पुतिन विरोधी नेता बन कर उभर रहे थे और उन्होंने मॉस्को के मेयर पद का चुनाव लड़ने का भी फैसला किया था. उन्होंने अपने ऊपर लगे आरोपों से इनकार किया है और कहा है कि क्रेमलिन उनका राजनीतिक जीवन खत्म करना चाहता है.

जिस वक्त अदालत में कार्यवाही चल रही थी, नवालनी अपने स्मार्टफोन से लगातार खेल रहे थे. लगभग साढ़े तीन घंटे तक अदालती कार्यवाही चलती रही. इस साढ़े तीन घंटे के दौरान उन्होंने ट्वीट किया, "ओह, मेरे बिना बोर मत होइएगा.. और हां, खास बात यह कि चुपचाप मत बैठिएगा." दोषी करार दिए जाने के बाद उन्होंने अपना फोन और घड़ी अपनी पत्नी यूलिया को सौंप दिया. वह बेहद आम कपड़ों में आस्तीन मुड़ी हुई शर्ट और जीन्स में अदालत पहुंचे थे.

जज ब्लिनोव ने कहा, "नवालनी ने बड़ा अपराध किया है. अदालत ने पाया कि नवालनी ने इस अपराध के जरिए गबन किया." सजा सुनने के बाद नवालनी ने अपनी पत्नी और मां को गले लगाया, पिता से हाथ मिलाया और उसके बाद उन्हें हथकड़ियां पहना दी गईं.

पुतिन विरोधी इसे सरकारी साजिश मान रहे हैं और उनका कहना है कि 13 साल के शासन में पुतिन ने अपनी मुखालफत करने वाले हर किसी को इसी तरह परेशान किया है. क्रेमलिन विरोधी कार्यकर्ता और पूर्व मंत्री बोरिस नेमसोव का कहना है, "शुरू से आखिर तक यह बनाया हुआ मामला था. यहां तक कि जज भी नहीं कह पाए कि अपराध की वजह क्या थी."

अदालत के बाहर लोगों ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी की और कुछ लोगों ने जो टीशर्ट पहन रखा था, उस पर लिखा था, "पुतिन चोर है."

किरोव शहर राजधानी मॉस्को से करीब 900 किलोमीटर दूर है. इसके सरकारी वकील ने छह साल की सजा की मांग की थी लेकिन जज ने पांच साल की सजा दी. इस सजा के साथ ही राजनीति में उनका सफर खत्म हो गया है. हालांकि बुधवार को ही उन्होंने मॉस्को के मेयर पद का चुनाव लड़ने की उम्मीदवारी भरी थी.

अदालत ने असाधारण तौर पर इस पूरी प्रिक्रिया की वीडियो रिकॉर्डिंग की इजाजत दी थी, जिसे रूस भर में लाइव दिखाया गया. हालांकि सरकारी टेलीविजन ने इसके कुछ हिस्सों का ही प्रसारण किया.

एजेए/एमजे (एएफपी, एपी, रॉयटर्स)

DW.COM

WWW-Links