1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

पुतिन ने अलगाववादियों की तारीफ की

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने पूर्वी यूक्रेन में संघर्ष कर रहे मॉस्को समर्थित अलगाववादियों की तारीफ की है. इस बीच नाटो अपने अगले कदम के बारे में विचार विमर्श कर रहा है.

दुनिया के सबसे बड़े सैनिक गठबंधन नाटो का दावा है कि रूस के 1000 सैनिक यूक्रेनी धरती पर लड़ाई में हिस्सा ले रहे हैं, जिसके बाद नाटो के राजदूतों की बैठक हो रही है. रूस बार बार इस बात से इनकार करता आया है कि यूक्रेन में उसके सैनिक लड़ रहे हैं.

इस बीच पुतिन ने सांकेतिक तौर पर अलगाववादियों की तारीफ की है और कहा है कि वे न्यू रशिया की सुरक्षा कर रहे हैं. पश्चिमी देशों ने चेतावनी दी है कि अगर रूस अपने सैनिकों के साथ संघर्ष में शामिल है, तो इसके खतरनाक नतीजे हो सकते हैं. अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा का कहना है, "रूस ने जानबूझ कर और बार बार यूक्रेन की संप्रभुता का हनन किया है. नई तस्वीरों में साफ है कि रूसी सैनिक उनकी सीमा में हैं और यह दुनिया में कोई भी देख सकता है."

पुतिन इन आरोपों से इनकार करते हुए कहते हैं, "मैं विद्रोहियों से अपील करता हूं कि वे यूक्रेनी सैनिकों के लिए मानवीय गलियारा खोल दें, ताकि बिना मतलब किसी तरह का नुकसान न हो. और उन्हें इस इलाके से सुरक्षित निकलने का रास्ता मिल सके."

Putin PK in Minsk 27.08.2014

पुतिन पर अलगाववादियों का साथ देने का आरोप

शीर्ष विद्रोही नेता आलेक्जांडर जखारचेन्को पुतिन की अपील पर राजी हो गए हैं और उन्होंने रूसी टेलीविजन से कहा है कि पुतिन की बात का सम्मान करते हुए उनके लोग यूक्रेनी सेना को वहां से निकलने का रास्ता देंगे.

यूक्रेनी सुरक्षा प्रमुख ने इस बात पर करारा जवाब देते हुए कहा है कि यह साबित करता है कि ये लोग रूस से निर्देशित होते हैं.

इस बीच जर्मन चांसलर अंगेला मैर्केल ने कहा है कि यूरोपीय नेता मॉस्को पर और प्रतिबंध लगाने की योजना पर विचार कर रहे हैं. यूक्रेन ने यूरोपीय संघ और नाटो से मदद मांगी है. अमेरिका और यूरोपीय संघ ने पहले ही मॉस्को पर कई तरह की पाबंदी लगा दी है, जिसके बाद रूस ने भी यूरोपीय संघ के देशों से होने वाले आयात पर रोक लगा दी है.

संयुक्त राष्ट्र ने जो नए आंकड़े जारी किए हैं, उसके मुताबिक कीव में अप्रैल में शुरू हुए संघर्ष में अब तक 2600 लोगों की मौत हो चुकी है. यूएन सुरक्षा परिषद में अमेरिकी दूत सामंथा पावर ने दावा किया कि रूस "झूठ" बोल रहा है.

इस बीच डोनेस्क के आस पास भी लड़ाई चल रही है. इन जगहों पर यूक्रेनी सेना भिड़े रहने की हर संभव कोशिश कर रही है. विद्रोही पक्ष के एक सैनिक ने अपना नाम "क्लासिक" बताते हुए कहा, "जो भी समर्पण कर रहा है और सफेद झंडा लहरा रहा है, उसे गोली नहीं मारी जाएगी." नाटो के एक अधिकारी ने कहा कि कम से कम 1000 रूसी सैनिक यूक्रेनी सीमा में हैं.

हालांकि इसी हफ्ते यूक्रेनी राष्ट्रपति पेट्रो पोरोशेंको और पुतिन ने बेलारूस की राजधानी मिंस्क में वार्ता की है लेकिन उसका कोई नतीजा नहीं निकल पाया.

एजेए/ओएसजे (एएफपी)

संबंधित सामग्री