1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

पुणे फ्रेंचाइजी के लिए बोली लगाई: चिरायु अमीन

आईपीएल के अंतरिम चेयरमैन चिरायु अमीन ने माना है कि वह उस समूह का हिस्सा रहे हैं जिसने आईपीएल में पुणे की फ्रेंचाइजी के लिए असफल बोली लगाई. अमीन ने बीसीसीआई को इस मामले में खत लिखने की बात स्वीकारी. मोदी ने लगाया है आरोप.

default

अमीन भी लपेटे में

निलंबित आईपीएल कमिश्नर ललित मोदी ने आरोप लगाया है कि चिरायु अमीन उस समूह का हिस्सा रहे हैं जिसने मार्च में पुणे फ्रेंचाइजी के लिए बोली लगाई. हालांकि

Lalit Modi IPL

जारी हैं मोदी के वार

पुणे के लिए लगी वह बोली सफल नहीं हो पाई. चिरायु अमीन ने एक बयान जारी कर बताया, "कुछ व्यवसायी मेरे पास आए और पुणे फ्रेंचाइजी के लिए बोली लगाने में हिस्सेदार बनने के लिए कहा. मैं अपनी एक सहयोगी कंपनी के जरिए 10 फीसदी तक हिस्सा लगाने के लिए तैयार हो गया."

अमीन ने स्पष्ट किया है कि नीलामी प्रक्रिया में हिस्सा लेने से पहले उन्होंने बीसीसीआई अध्यक्ष शशांक मनोहर को एक खत लिखा. "शशांक मनोहर को लिखे खत में मैंने कहा कि अगर हमारी बोली सफल साबित होती है तो फिर निवेश से पहले हमें बीसीसीआई से अनुमति लेनी होगी. हमने नीलामी प्रक्रिया के हर कदम पर पूरी पारदर्शिता बरती."

वित्तीय धांधलियों के आरोपों में घिरे ललित मोदी ने शुक्रवार को दावा किया कि चिरायु अमीन उस समूह का हिस्सा हैं जिसका नेतृत्व अनिरुद्ध देशपांड कर रहे थे. अनिरुद्ध देशपांडे सिटी कारपोरेशन के मैनेजिंग डायरेक्टर हैं. यह वही कंपनी है जिसमें कृषि मंत्री शरद पवार और उनके परिवार के 16 फीसदी शेयर हैं और जिसने पुणे फ्रेंचाइजी के लिए बोली लगाई. हालांकि पवार परिवार का कहना है कि देशपांडे ने आईपीएल में टीम की नीलामी प्रक्रिया में हिस्सा निजी तौर पर लिया.

Sharad Pawar Shashank Manohar BCCI

पवार पर भी उठी ऊंगलियां

ललित मोदी के मुताबिक समूह में तीन सदस्यों ने बोली लगाई और वे अनिरुद्ध, आकृति और चिरायु अमीन हैं. मोदी का कहना है कि यह पूरी तरह सच है और वह बढ़ा चढ़ाकर या तोड़ मरोड़कर तथ्यों को पेश नहीं कर रहे हैं. चिरायु अमीन वड़ोदरा के उद्योगपति हैं और वह बड़ौदा क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष हैं. ललित मोदी को निलंबित किए जाने के बाद ही चिरायु अमीन को आईपीएल कमिश्नर नियुक्त किया गया है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: ए कुमार