1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

पुणे के अधिकारी को आईएस की धमकी

पुणे में एक 16 साल की लड़की को आईएस में भर्ती होने की ट्रेनिंग से रोकने वाले पुलिस अधिकारी को जान से मारने की धमकी मिली है. पत्र लिखने वाले ने आईएस से संबंधित होने के संकेत दिए.

यह पत्र महाराष्ट्र के आतंक निरोधक दस्ते के एसीपी भानुप्रताप बर्गे के नाम लिखा गया है. पत्र में उन्हें और उनके पिरवार को भारी खामियाजा भुगतने की धमकी दी गई है. धमकी मिलने के बाद से उनके आवास और कार्यालय पर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है. पुलिस के मुताबिक पुणे की इस 16 वर्षीय स्कूल छात्रा की गतिविधियों पर कई दिन नजर रखने के बाद महाराष्ट्र के आतंक निरोधक दस्ते ने लड़की से पूछताछ की थी.

पुलिस के मुताबिक यह लड़की इंटरनेट पर आईएस के बारे में पढ़ पढ़ कर उससे प्रभावित हुई और सीरिया जाने की फिराक में थी. बर्गे इस लड़की से पूछताछ करने और उसके सुधार कार्यक्रम का हिस्सा थे. टीवी पर आईएस के बारे में डॉक्यूमेंट्री और अन्य कार्यक्रम देख कर प्रभावित हुई यह लड़की न्यूज चैनलों पर आईएस से जुड़ी खबरों में खास रुचि लेने लगी.

बर्गे के हवाले से हिंदुस्तान टाइम्स ने लिखा है, "लड़की ने आईएस से संपर्क साधने के लिए इंटरनेट का इस्तेमाल किया और अलग अलग देशों से करीब 200 युवा लोगों से संपर्क साधा. पूछताछ के दौरान उसने बताया कि उससे मेडिकल की पढ़ाई और आगे की शुरुआत के लिए सीरिया आने को कहा गया था." उनके मुताबिक परिवार वालों और समुदाय के अन्य सदस्यों की मदद से चलाए जा रहे सुधार कार्यक्रम में काफी सराहनीय नतीजे सामने आने लगे थे.

एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक यह संदेश ईमेल नहीं बल्कि चिट्ठी के रूप में आया है. इसे मुंबई पुलिस को जांच के लिए सौंप दिया गया है और अधिकारियों से चौकन्ना रहने को कहा गया है. पुणे में आतंक निरोधक दस्ता पिछले कुछ महीने से अत्यधिक सक्रिय रूप से काम कर रहा है. पुलिस पता लगाने की कोशिश कर रही है कि पत्र कहां से डाला गया था.

DW.COM

संबंधित सामग्री