1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

पीओके में चीनी सैनिकों की मौजूदगी की जांच करेगा भारत

पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर के गिलगित बाल्टिस्तान इलाके में चीन के सैनिकों की मौजूदगी से जुड़ी मीडिया रिपोर्टों की भारत जांच कराएगा. भारत के विदेश मंत्रालय ने इस पर संजीदगी से कार्रवाई करने को कहा है.

default

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विष्णु प्रकाश ने न्यूयार्क टाइम्स में छपी रिपोर्ट के हवाले से कहा है कि यह बेहद गंभीर मामला है और सरकार इसकी सच्चाई की जांच करेगी. हाल ही में छपी इस रिपोर्ट में भारत और पाकिस्तान के बीच सुरक्षा के लिहाज से अहम गिलगित बाल्टिस्तान इलाके में चीन के 7 से 11 हजार सैनिक मौजूद होने का दावा किया गया है.

रिपोर्ट के मुताबिक चीन पाकिस्तान के जरिए इस इलाके में अपनी पकड़ मजबूत करना चाहता है. इसके लिए इस इलाके में उसने रेल और सड़क मार्ग बनाने काम शुरू कर दिया है. चीन की योजना पाकिस्तान के बलूचिस्तान में बनाए गए ग्वादर, पसनी और ओरमारा नौसैनिक अड्डों तक तेल और दूसरे मालवाहक टेंकरों के आवागमन का रास्ता तैयार करने की है. यहां से चीन की खाड़ी देशों तक पंहुच सिर्फ 48 घंटे दूर रह जाएगी.

अपनी प्रतिक्रिया में प्रकाश ने कहा "हमने इस तरह की मीडिया रिपोर्टों को देखा है और इसकी सच्चाई की जांच की जा रही है. अगर यह सही पाई जाती है तो वाकई यह काफी गंभीर मामला है. ऐसी स्थिति में सरकार देश की सुरक्षा सुनिशिचत करने के लिए हर संभव कारगर कदम उठाएगी."

रिपोर्ट के अनुसार ये सैनिक पाकिस्तान को चीन के झिंगझियांग प्रांत से जोड़ने वाले कराकोरम हाईवे और कुछ दूसरी सड़क और बांध बनाने के काम में लगे हैं. यह पूरा इलाका दुर्गम और विवादित होने के कारण इंसानी गतिविधियों से अलग है.

रिपोर्टः पीटीआई/निर्मल

संपादनः एन रंजन

DW.COM

WWW-Links

संबंधित सामग्री