1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

पीएम से मिले बीजेपी नेता, भारद्वाज को हटाने की मांग

बीजेपी नेताओं ने प्रधानमंत्री से मिल कर मांग की है कि कर्नाटक के राज्यपाल एचआर भारद्वाज को वापस बुलाया जाए. बीजेपी राज्यपाल पर पक्षपात का आरोप लगा रही है. भारद्वाज ने राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश की है.

default

पीएम से मिले बीजेपी नेता

बीजेपी नेता लाल कृष्ण आडवाणी के नेतृत्व वाले शिष्ठमंडल ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को सौंपे ज्ञापन में कहा है कि राज्यपाल ने पूर्वाग्रह से ग्रस्त हो कर काम किया हैं. उन्होंने सोमवार को राज्य विधानसभा में सरकार के विश्वास मत हासिल करने के "कुछ मिनटों के भीतर ही" केंद्र सरकार को राज्य में राष्ट्रपति शासन की सिफारिश कर दी.

बीजेपी नेता आडवाणी, सुषमा स्वराज, अरुण जेटली और वैंकेया नायडू प्रधानमंत्री से मिले तो वहां गृह मंत्री पी चिदंबरम भी मौजूद थे. जेटली ने पत्रकारों को बताया, "हमने प्रधानमंत्री और गृह मंत्री से मुलाकात की है. उन्हें एक विस्तृत ज्ञापन भी दिया है. हमारी यह मुलाकात सिर्फ कर्नाटक के राज्यपाल को लेकर थी. पार्टी ने मांग की है कि उन्हें तुरंत वापस बुलाया जाए."

जेटली ने आरोप लगाया कि बैंगलोर में राजभवन राज्य सरकार को अस्थिर करने के लिए "खरीद फरोख्त का मुख्य केंद्र" बन गया है. उनके मुताबिक राज्यपाल पूर्वाग्रह से ग्रस्त हो कर काम कर रहे हैं. बीजेपी नेता ने दावा किया कि राज्यपाल की न तो भाषा और न कदम उनके संवैधानिक पद के अनुकूल थे. जेटली का आरोप है कि राज्यपाल अपने पद को राजनीति से अलग रखने में नाकाम रहे हैं.

जेटली का कहना है कि केंद्र सरकार को अब अपनी जिम्मेदारी पूरी करते हुए राज्यपाल को वापस बुला लेना चाहिए. बीजेपी ने कहा कि पहला विश्वास मत अपने आप में "परिपूर्ण" था. लेकिन पार्टी सिर्फ संवैधानिक टकराव को टालने के लिए राज्यपाल के कहने पर दूसरे विश्वास मत के लिए सहमत हुई.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए कुमार

संपादनः ओ सिंह

DW.COM

WWW-Links