1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

पिकासो की सैकड़ों पैंटिंग मिली

स्पेनी पेंटर पाब्लो पिकासो की 200 से ज्यादा पेंटिंग 71 साल के एक रिटायर्ड इलेक्ट्रिशियन के पास मिली हैं. कलेक्शन देखने के बाद जानकारों का कहना है कि इनकी कीमत कम से कम 3.6 अरब रूपये है.

default

पाब्लो पिकासो

पियरे ल गिनेस नाम के इस पूर्व इलेक्ट्रिशियन ने पिकासो के बेटे और वारिस क्लोद पिकासो को पत्र लिखा कि वो इन पेंटिग्स के असली होने की पुष्टि कर दें. इसी साल सितंबर में दोनों की मुलाकात हुई. पियरे को उम्मीद थी कि क्लोद की पुष्टि के बाद इस कलेक्शन को नीलाम कर देंगे लेकिन हुआ कुछ और ही. कलेक्शन देखने के बाद और जानकारों से इनके असली होने की पुष्टि के बाद पिकासो के वारिस ने पुलिस से कहा कि उसे चोरी की गई पेंटिंग मिली है. क्लोद पिकासो के मुताबिक गिनेस के पास मौजूद ये सारी पेंटिंग चोरी की हैं.

Flash-Galerie EVENT Grafik von Picasso

उधर ले गिनेस का दावा है कि ये कलेक्शन उसे पिकासो और उनकी पत्नी ने अलग अलग मौकों पर भेंट में दी थी. ये तब की बात है जब वो पिकासो के घरों में अलार्म सिस्टम लगा रहे थे. इन घरों में पिकासो का कान का वो घर भी शामिल है जिनमें उन्होंने जीवन के आखिरी तीन साल बिताए. कलेक्शन में कुल 271 पेंटिंग है. क्लोद इस दावे से इंकार करता है उसका कहना है कि उसके पिता ने कभी किसी को इतनी बड़ी संख्या में पेंटिंग भेंट नहीं की.

क्लोद की शिकायत के बाद सांस्कृतिक चीजों की कालाबाजारी रोकने वाले संगठन, ओसीबीसी के अधिकारियों ने गिनेस के घर से ये सारा कलेक्शन जब्त कर लिया. गिनेस को भी हिरासत में ले लिया गया हालांकि बाद में उसे छोड़ दिया गया और फिलहाल ये पता नहीं चल सका है कि वो कहां है. इस कलेक्शन में नोटबुक्स से लेकर ड्राइंग और तैयार पेंटिंग भी हैं. इसके साथ नौ क्यूबिस्ट भी है. अकेले इन्हीं की कीमत करीब ढाई अरब रुपये है. इन सबके अलावा पिकासो के ब्लू पीरियड में बनाई उनकी पहली पत्नी ओल्गा की एक पोर्ट्रेट और इसके साथ ही ग्वाश और लिथोग्राफ की भी कई कलाकृतियां हैं.

Spanien Bürgerkrieg Malerei Guernica von Pablo Picasso

स्पेन में जन्मे पिकासो ने तरुणाई से लेकर बुढ़ापे तक का ज्यादातर समय फ्रांस में बिताया. 20वीं सदी में कला से जुड़े सबसे बड़े नामों में एक पिकासो भी है और उनकी पेंटिग्स के दीवाने दुनिया के कोने कोने में हैं. क्यूबिस्ट मूवमेंट पिकासो ने शुरू किया और उनकी पेंटिंग में मौजूदा सामाजिक हालात और भावनाओं की तस्वीर झलकती रही. दूसरे विश्वयुद्ध के दौरान जब जर्मनी ने पेरिस पर कब्जा किया तो वो वहीं थे और उन्होंने उस दौर की कई तस्वीरें बनाई. हालांकि उस दौर में उनकी तस्वीरों की नुमाइश पर पाबंदी थी इसलिए वो चोरी छिपे पेंटिंग बनाते रहे और उन्हें बहुत बाद में दुनिया के सामने लाया गया.

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

संपादनः महेश झा

WWW-Links