1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

पार्किन्सन्स की दवाई से ज़्यादा शॉपिंग की बीमारी

नए शोध में सामने आया है कि पार्किन्सन्स रोग के लिए दी जाने वाली दवाओं से जुआ खेलने, बहुत शॉपिंग करने, ज़्यादा सेक्स करने की इच्छा होती है.ये दवाएं लेने वाले रोगी के व्यव्हार में बड़े बदलाव आते हैं.

default

पार्किसन्स रोग के लिए दी जाने वाली दवाओं से रोगी का व्यव्हार अनियंत्रित हो जाता है और उसमें जुआ खेलने, बहुत ज़्यादा शॉपिंग करने या फिर ज़्यादा खाने की आदत पैदा हो जाती है इतना ही नहीं यौन व्यव्हार में भी बदलाव आते हैं.

अमेरिकी वैज्ञानिकों ने तीन हज़ार लोगों पर पार्किन्सन्स की दवाइयों का परीक्षण किया और पाया कि डोपेमिन एगोनिस्ट वाली दवाईयों का व्यव्हार पर भारी असर पड़ता है. शोधकर्ताओं का कहना है कि ग्लैक्सो क्लाइन स्मिथ रिक्विप, रोफिनिरोल, बोएरिंगर इंगेलहाइम की मिरापेक्स या फिर प्रामिपेक्सॉल दवाइयों से अनियंत्रित व्यव्हार की शिकायत हो सकती है. इसलिए ज़रूरी है कि डॉक्टर जब इन दवाओं को दें तो मरीज़ों के व्यव्हार पर भी नज़र रखें.

पेनसिल्वेनिया युनिवर्सिटी के प्रोफेसर डैनियल वाइनट्राउब का कहना है, ''कुछ समय से हमें संदेह है कि डोपेमिन एगोनिस्ट वाली दवाओं और आवेगपूर्ण व्यव्हार के बीच कुछ संबंध हो सकता है.''

Uniklinik Leipzig Parkinson

पार्किन्सन्स रोग पर अब भी शोध जारी हैं.

डोपेमिन एगोनिस्ट वाली दवाइयां मस्तिष्क को डोपेमिन बनाने का आदेश देती हैं जो पार्किन्सन्स बीमारी के कारण ख़त्म होने लगता है. डोपेमिन केमिकल दिमाग के संदेश ले जाने का काम करता है. पार्किन्सन्स के कारण मरीज़ का धीरे धीरे अपने शरीर से और स्नायु तंत्र पर नियंत्रण ख़त्म होने लगता है और फिर उसकी मौत हो जाती है.

वाइनट्राउब के ग्रुप ने तीन हज़ार 90 पार्किन्सन मरीज़ों पर नज़र रखी जो या तो डोपेमिन एगोनिस्ट वाली दवाई ले रहे थे या फिर लेवोडोपा डोपेमिन वाली दवाई ले रहे थे.

उन्होंने शोध में पाया कि इन मरीज़ों में से 13.6 फीसदी यानी करीब 400 लोगों के व्यव्हार में बदलाव देखा गया.

शोधकर्ताओं ने निष्कर्ष निकाला कि डोपेमिन वाली दवाओं से व्यव्हार में एक ज़्यादा तरह के बदलाव देखे जाते हैं. अधिकतर मरीज़ों में ज़्यादा खाने की आदत पैदा हो जाती है या फिर उनके यौन व्यव्हार में बदलाव आता है या वे ज़्यादा ख़रीदारी करने लग जाते हैं.

डोपेमिन एगोनिस्ट वाली दवा सिर्फ पार्किन्सन्स रोग में नहीं दी जाती बल्कि रेस्टलेस लेग सिन्ड्रोम में भी दी जाती है.

रिपोर्टः रॉयटर्स/आभा मोंढे

संपादनः ओ सिंह

संबंधित सामग्री