1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

पार्किंसन से जूझ रहे हैं बैनिस्टर

चार मिनट के भीतर एक मील की दौड़ पूरी करने वाले दुनिया के पहले धावक ब्रिटेन के रोजर बैनिस्टर ने इस कामयाबी को हासिल करने के करीब 60 साल बाद खुलासा किया है कि वह पार्किंसन बीमारी की चपेट में हैं.

अब 85 साल के हो चुके बैनिस्टर ने बीबीसी रेडियो को दिए साक्षात्कार में खुलासा किया कि वह तीन साल से पार्किंसन के मरीज हैं. बैनिस्टर ने 6 मई 1954 को ऑक्सफोर्ड के इफली रोड ट्रैक पर एक मील की दूरी तीन मिनट 59.4 सेकेंड में पूरी की थी. इस ट्रैक को अब बैनिस्टर ट्रैक के नाम से जाना जाता है. बैनिस्टर ने 1954 में राष्ट्रमंडल खेलों में एक मील दौड़ में स्वर्ण पदक जीता और फिर उसी साल यूरोपीय चैंपियनशिप में 1500 मीटर में गोल्ड मेडल हासिल किया. उसके बाद वह न्यूरोलॉजिस्ट बने थे.

बीबीसी को दिए साक्षात्कार में बैनिस्टर ने कहा, "मुझे चलने में परेशानी होती है. यह न्यूरो की बीमारी पार्किंसन है. यह एक विडंबना है. न्यूरोलॉजिस्ट के तौर पर मैंने कई मरीजों को देखा है और मुझे इस बात का कोई आश्चर्य नहीं है कि मुझे यह रोग लगा है."

बैनिस्टर का कहना है कि जीवन में इस तरह का होता रहता है. उन्होंने साक्षात्कार में कहा, "मेरी अच्छी तरह से देखभाल हो रही है और इस रोग को खुद पर हावी नहीं होने दूंगा. तीन साल पहले ही इस बीमारी का पता चल गया था लेकिन मैंने अब तक इसे सार्वजनिक नहीं किया. जिंदगी में मुझे दौड़ने के अलावा घूमने का शौक रहा है. लेकिन अब मैं ऐसा नहीं कर पा रहा हूं."

बैनिस्टर कहते हैं कि उन्हें पार्किंसन के बारे में बहुत जानकारी है क्योंकि उन्होंने कई लोगों का इलाज किया है. उनका कहना है कि इस बीमारी को लेकर किए गए शोध नाकाफी हैं और इस दिशा में बड़ी कामयाबी हासिल में अभी समय लगेगा.

एए/एजेए (वार्ता)

संबंधित सामग्री