1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

पाबंदियों से उकताई महिलाओं की दुआ "धरती से मिट जाएं आदमी"

सऊदी अरब में महिलाओं पर कई पाबंदियां लागू होने के बारे में आपने कभी ना कभी जरूर पढ़ा या सुना होगा. वहां की सड़कों पर जब आप सऊदी महिलाओं को स्कूटर चलाते, स्केटिंग करते, नाचते, गाते देखेंगे तो यकीनन विश्वास नहीं कर सकेंगे.

सऊदी अरब की एक मनोरंजन कंपनी का बनाया एक म्युजिक वीडियो यूट्यूब पर डाले जाने के कुछ ही दिनों में चालीस लाख से भी अधिक बार देखा और शेयर किया जा चुका है. इसमें गीत गाती, नाचती, सड़कों पर स्कूटर चलाती, स्केटिंग करती सऊदी अरब की महिलाओं को देखकर शायद आपको अपनी आंखों पर यकीन ना हो. असल जीवन के ऐसे बेहद आम से काम करने की मनाही से तंग आ चुकी सऊदी महिलाओं ने इस म्युजिक वीडियो में इन पाबंदियों पर अपनी खीज को खुल कर दिखाया है. लेकिन वो भी संगीत के माध्यम से. अंग्रेजी में गीत के बोलों के अर्थ के साथ देखिए अरबी म्युजिक वीडियो का एक हिस्सा.

अपनी आधी आबादी के लिए ऐसी आजादी चाहने वाली इन महिलाओं के गीत में अल्लाह से दुआ की गई है कि काश दुनिया से सारे आदमी ही खत्म हो जाएं, जिन्होंने हमें सारी मानसिक परेशानियां दे रखी हैं. ऐसी दुआ मांगने की नौबत आने का ठोस कारण भी है. वीडियो की शुरुआत में ही नकाब पहनी तीन महिलाएं एक बड़ी गाड़ी में पीछे की सीट पर बैठती हैं जबकि एक छोटा सा बच्चा ड्राइविंग सीट पर. सऊदी अरब में आज भी महिलाओं को गाड़ी चलाने की अनुमति नहीं है. इसके अलावा वहां लागू गार्डियनशिप सिस्टम के तहत चाहे महिला वयस्क ही क्यों ना हो, उसे पढ़ाई करने, यात्रा करने या नौकरी करने के लिए भी अपने परिवार के पुरुष सदस्यों से आज्ञा मांगनी पाड़ती है. यानि पुरुष गार्डियन की मर्जी के बिना उन्हें अपने खुद के लिए भी ऐसे बुनियादी फैसले नहीं लेने दिए जाते.

इस वीडियो में महिलाएं बास्केटबॉल खेलती, गाती, नाचती दिखाई गई हैं जो सऊदी अरब में महिलाओं का सार्वजनिक रूप से करना मना है. ऐसे कई दकियानूसी सामाजिक कानूनों के खिलाफ आवाज उठाने में यह वीडियो कारगर साबित हो रहा है. सोशल मीडिया के माध्यम से दुनिया भर में देखा जा रहा यह गीत महिलाओं के साथ दोयम दर्जे का बर्ताव किए जाने और एक इंसान होने के नाते उनके बुनियादी अधिकारों का उल्लंघन करने वाले नियमों के खिलाफ नारा बन रहा है.

शक्तिशाली संदेश वाले इस तरह के वीडियो बनाने के लिए इसके निर्माता और अदाकारों को जेल हो सकती है या कोड़े लगाए जाने जैसी सजा दी जा सकती है. सऊदी अरब में सरकार और धार्मिक ईकाइयों के बीच स्थापित गहरे संबंध के कारण सभी सामाजिक मसलों पर धर्म के ठेकेदारों की चलती है. इसके पहले साल 2013 में भी सऊदी महिलाओं ने उनके गाड़ी चलाने पर लागू पाबंदी के खिलाफ एक म्युजिक वीडियो बनाया था, जो "No Woman No Drive" कहलाया था. इस बार वायरल हो रहा पूरा म्युजिक वीडियो यहां देखिए और इस बारे में अपनी राय नीचे टिप्पणियों में लिख भेजिए.  

आरपी/एके

DW.COM

संबंधित सामग्री