1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

पाक में 26/11 की जांच करना चाहता है भारत

भारत लश्कर ए तैयबा का आतंकवादियों से पूछताछ के लिए एक आयोग को पाकिस्तान भेजना चाहता है. यह आयोग 2008 के मुंबई आतंकी हमलों के बारे में जकीउर रहमान लखवी समेत लश्कर आतंकियों से सवाल जवाब करेगा.

default

भारत ने पाकिस्तान को भेजे एक प्रस्ताव में कहा है कि वह एक आयोग इस्लामाबाद भेजना चाहता है. भारत चाहता है कि यह आयोग मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड माने जाने वाले आतंकवादियों की आवाजों के नमूने जुटाए. जांच एजेंसियों का कहना है कि मुंबई हमलों के लिए पाकिस्तान में एक कंट्रोल रूम बनाया गया था और आतंकवादियों को वहीं से निर्देश मिल रहे थे.

भारत ने कहा है कि उसका आयोग लखवी और छह अन्य आरोपियों से पूछताछ करना चाहेगा. इन सभी को नवंबर 2009 में पाकिस्तान के आतंकवाद निरोधी कानून के तहत गिरफ्तार किया गया. इनके अलावा भारत जरार शाह और अबु अल कामा से भी पूछताछ करना चाहता है.

भारत सरकार कई मौकों पर पाकिस्तान से कह चुकी है कि मुंबई हमलों के दोषियों को सजा दिलाने के लिए उठाए जा रहे कदमों की जानकारी दे. वह कई आरोपियों की आवाज के नमूनों की मांग भी कर चुकी है. जून में जब भारतीय गृह मंत्री पी चिदंबरम पाकिस्तानी गृह मंत्री रहमान मलिक से मिले थे, तब उन्होंने भी सात आरोपियों के बारे में जानकारी मांगी थी.

एक आयोग भेजने की पाकिस्तान की मांग पर भी भारत सरकार विचार कर रही है. पाकिस्तान ने एक आयोग भेजने का आग्रह किया था जो 26/11 हमलों के भारतीय जांच अधिकारी, सुनवाई करने वाले जज और उस डॉक्टर से पूछताछ करेगा जिसने आतंकवादियों के शवों का पोस्टमॉर्टम किया.

पाकिस्तानी सरकार ने खास तौर पर अडिश्नल चीफ मेट्रोपॉलिटन मैजिस्ट्रेट आरवी सावंत वागले और जांच अधिकारी रमेश महाले का नाम लिया है जिन्होंने अजमल आमिर कसाब का बयान रिकॉर्ड किया. इस बारे में भारत चाहता है कि पाकिस्तान भरोसा दिलाए कि इसके बाद 26/11 हमले के बारे में पूछताछ की कोई और मांग नहीं की जाएगी.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः ए जमाल

DW.COM

WWW-Links