1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

पाक की नई 'रणनीति' पर बीजेपी, सरकार एकमत

कश्मीर में जारी हिंसा और तनाव से निपटने के तरीकों पर सरकार और बीजेपी में मतभेद हो सकते हैं लेकिन कश्मीर में पाकिस्तान की भूमिका पर दोनों की राय एक है. दोनों का मानना है कि पाक अब नागरिक असंतोष भड़काने की कोशिश कर रहा है.

default

चिदम्बरम

केंद्रीय गृहमंत्री पी चिदम्बरम ने भारतीय जनता पार्टी से सहमति जताई कि पाकिस्तान ने कश्मीर मुद्दे पर अपनी रणनीति बदल ली है. पाकिस्तान चरमपंथी गतिविधियों को भड़काने के बजाए आम लोगों में असंतोष भड़का रहा है जिसका नतीजा हिंसक विरोध प्रदर्शनों के रूप में देखने को मिल रहा है. "ऐसा लगता है कि पाकिस्तान ने अपनी रणनीति में बदलाव किया है. यह बिलकुल संभव है. ऐसा प्रतीत होता है कि पाकिस्तान आम लोगों का गुस्सा भड़का रहा है और इसके जरिए उसकी कोशिश फायदा उठाने की है."

पिछले दो महीने में पथराव की बढ़ती घटनाओं पर चिदम्बरम ने यह बात कही. इससे पहले राज्यसभा में विपक्ष के नेता अरुण जेटली ने कहा कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई सीमा पार से अपनी रणनीति बदल रही है. गुरुवार को एलके आडवाणी की अध्यक्षता में एनडीए गठबंधन के एक प्रतिनिधिमंडल ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से

Wahl in Indien Manmohan Singh und Lal Krishna Advani

आडवाणी और मनमोहन सिंह

मुलाकात की और उन्हें बताया कि अलगाववादी पाकिस्तान के उकसाने पर बदली रणनीति पर काम कर रहे हैं.

प्रधानमंत्री को सौंपे गए एक खत में कहा गया है, "पाकिस्तान को यह महसूस हो गया है कि आतंकवादी घटनाएं अब दुनिया भर में बर्दाश्त से बाहर हो रही हैं. उसे यह भी पता है कि भारत के मुस्तैद सुरक्षाकर्मी आतंकवादी और चरमपंथी गतिविधियों पर काबू पा सकते हैं. इसलिए वह रणनीति बदल कर दुनिया को दिखाना चाहता है कि कश्मीरियों की मांग न्यायसंगत है." खत में कहा गया है कि अलगाववादियों को सीमापार से निर्देश मिल रहे हैं.

एनडीए गठबंधन का कहना है कि स्कूली बच्चों से लेकर महिलाएं, बड़े-बूढ़े सुरक्षा बलों और सरकारी इमारतों को निशाना बना रहे हैं. अब काम इसी रणनीति पर हो रहा है. भीड़ हिंसा पर उतारू होती है ताकि सुरक्षा बलों को रक्षात्मक कार्रवाई के लिए मजबूर होना पड़े. फायरिंग होने के चलते लोगों की जान जाती है और फिर हिंसक प्रदर्शन और भड़कते हैं.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: महेश झा

संबंधित सामग्री