1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

पाकिस्तान में ही है लादेनः माइक मुलैन

अमेरिकी सेना प्रमुख माइक मुलैन ने पाकिस्तान के कबायली इलाकों को अल कायदा का ग्लोबल हेडक्वॉर्टर बताया है. उन्होंने यह भी कहा कि अमेरिका मानता है कि अल कायदा मुखिया ओसामा बिन लादेन पाकिस्तान में ही है.

default

ओसामा बिन लादेन

शनिवार को इस्लामाबाद में पत्रकारों के साथ बातचीत में मुलैन ने कहा कि ओसामा बिन लादेन और अल कायदा में नंबर दो की हैसियत रखने वाला अयमान अल जवाहिरी पाकिस्तान में ही हैं. इसीलिए अमेरिका की अफगानिस्तान पाकिस्तान नीति का एक बड़ा मकसद आंतकवादियों की इस सुरक्षित पनाहगाह को खत्म करना है.

Mike Mullen

माइक मुलैन

इससे पहले अमेरिकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने भी यही कहा कि लादेन और अल कायदा के दूसरे नेता पाकिस्तान में ही हैं. हालांकि पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने इस बात को महज अटकलबाजी बताकर खारिज किया.

मुलैन 19वीं बार पाकिस्तान के दौरे पर गए हैं. पत्रकारों के सवालों के जवाब में उन्होंने कहा कि अल कायदा के नेता बहुत सुरक्षित जगह पर छिपे हैं और उन्हें तलाशना मुश्किल है. उन्होंने पाकिस्तान के कबाइली इलाकों को अल कायदा के आतंकी नेटवर्क का ग्लोबल हेडक्वॉर्टर बताया.

चरमपंथियों के खिलाफ कार्रवाई में मुलैन ने पाकिस्तान की कोशिशों की सराहना की, लेकिन यह भी कहा कि तालिबान के हक्कानी नेटवर्क के खिलाफ कदम उठाए जाने अब भी बाकी हैं.

पाकिस्तान से काम करने वाला यह गुट अफगानिस्तान में शांति के लिए मुश्किल पैदा कर रहा है. मुलैन ने कहा कि पाकिस्तान अधिकारी हक्कानी नेटवर्क की वजह से होने वाले खतरे को बखूबी जानते हैं और वह कई बार इस खतरने से निपटने के लिए पाकिस्तान को कह चुके हैं.

अमेरिकी सेना प्रमुख ने कहा कि अमेरिका और पाकिस्तान आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में नजदीकी सहयोगी हैं और अमेरिका इस लड़ाई में पाकिस्तान की मदद बराबर करता रहेगा. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान और अमेरिका की खुफिया एजेंसियों के बीच तालमेल बेहतर हुए हैं लेकिन इस बारे में अभी और भी किए जाने की जरूरत है. उन्होंने आतंकवादियों को पकड़ने में पाकिस्तानी सेना और आईएसआई की भूमिका की तारीफ की.

मुलैन ने इस बात से इनकार किया कि पाकिस्तान के सेना प्रमुख परवजे अशफाक कयानी का कार्यकाल बढ़ाने के लिए अमेरिका ने पाकिस्तानी सरकार पर किसी तरह का दबाव डाला. उन्होंने कहा, "पाकिस्तान एक संप्रभु देश है और यह उसका आंतरिक मामला है."

उन्होंने यह भी कहा कि पाकिस्तान में गोपनीय तौर पर अमेरिकी सैनिकों को तैनात नहीं किया गया है. देश में मौजूद सभी अमेरिकी सैनिक पाकिस्तान के आग्रह पर ट्रेनिंग देने के लिए आए हैं.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए कुमार

संपादनः एस गौड़

संबंधित सामग्री