1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

पाकिस्तान में सुरक्षाकर्मियों का मनोवैज्ञानिक परीक्षण

पाकिस्तान में इन दिनों राजनेताओं की सुरक्षा इंतेजामों पर खासा ध्यान दिया जा रहा है. पंजाब यूनीवर्सिटी की मदद से पाकिस्तान में राजनेताओं की सुरक्षा में तैनात सुरक्षाकर्मियों का मनोवैज्ञानिक परीक्षण भी किया जा रहा है.

default

पाकिस्तान सरकार का गृह विभाग इन दिनों पाकिस्तान के खास राजनेताओं की सुरक्षा को लेकर अपनी योजनाओं को अंतिम रूप देने जा रहा है. गृह विभाग के एक अधिकारी के अनुसार खूफिया विभाग के अफसरों को राजनेताओं की सुरक्षा में तैनात करने की सिफारिश पर भी गौर किया जा रहा है.

पिछले तीन हफ्तों में आला नेताओं की सुरक्षा में तैनात कई सुरक्षाकर्मियों को उनकी ड्यूटी से हटा दिया गया है और कईयों का पंजाब यूनीवर्सिटी में यह जानने के लिए मनोवैज्ञानिक परीक्षण किया जा रहा है कि वे दिमागी तौर पर किसी नेता की सुरक्षा करने के लायक हैं या नहीं.

पंजाब के कानूनमंत्री राना सनाउल्लाह ने बताया कि जिन लोगों को राजनेताओं की सुरक्षा में तैनात किया गया है, उन लोगों के बारे में जानकारी के दायरे को हमने बढ़ा दिया है और उनकी स्क्रीनिंग बेहतर तरीके से की जा रही है. उन्होंने कहा कि सुरक्षाकर्मियों के बारे में मनोवैज्ञानिक तरीके से पता लगाया जाएगा कि उसकी सोच किस तरह की है और वे तनावपूर्ण परिस्थतियों में किस तरह व्यवहार कर सकते हैं.

Pakistan Armee in Islamabad

पंजाब यूनीवर्सिटी के वाइस चांसलर डॉक्टर मुजाहिद कामरान ने बताया कि पंजाब यूनीवर्सिटी के शोधकर्ताओं में इतनी काबिलियत है कि वे सुरक्षाकर्मियों के व्यवहार को आधार बनाकर उन पर मनोवैज्ञोनिक शोध कर सकते है. उन्होंने कहा कि हमारे पास कुछ ऐसे टेस्ट हैं जिनसे पता लगाया जा सकता है कि व्यक्ति विपरित परिस्थितियों में किस प्रकार का व्यवहार करेगा और उसकी भावनाएं कैसी होंगी. उन्होंने बताया कि इन टेस्ट से यह भी पता चल सकेगा कि कौन से व्यक्ति को आसानी से फुसलाया जा सकता है और किसे जल्दी गुस्सा आ सकता है.

डॉक्टर मुजाहिद ने कहा कि हम अलग-अलग टेस्ट से लोगों का व्यक्तित्व का पता लगा सकते हैं और उसके आधार पर तय कर सकते हैं कि कौन राजनेताओं की सुरक्षा के काबिल है और कौन नही.

पंजाब यूनीवर्सिटी में इन दिनों आतंकवाद और उसका पाकिस्तान पर उसका प्रभाव जानने के लिए कुछ शोध चल रहे है.

रिपोर्टः तनवीर शहजाद

संपादनः ईशा भाटिया

DW.COM