पाकिस्तान में नवाज शरीफ के दामाद गिरफ्तार | दुनिया | DW | 09.10.2017
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

पाकिस्तान में नवाज शरीफ के दामाद गिरफ्तार

पाकिस्तान में पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के दामाद को भ्रष्टाचार के आरोपों में गिरफ्तार किया गया है. लंदन से इस्लामाबाद लौटते ही उन्हें एयरपोर्ट पर गिरफ्त में ले लिया गया.

मोहम्मद सफदर पाकिस्तान की संसद के सदस्य हैं और नवाज शरीफ की बेटी और उनकी संभावित सियासी वारिस समझी जाने वाली मरियम नवाज के पति हैं. पाकिस्तान में भ्रष्टाचार विरोधी संस्था राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (एनएबी) के अधिकारियों ने उन्हें गिरफ्तार किया. शरीफ परिवार की संपत्ति से जुड़ी जांच में सफदर के खिलाफ भी भ्रष्टाचार के आरोप हैं. इस सिलसिले में उन्हें एनएबी की अदालत में पेश होना था लेकिन, वह पेश नहीं हुए. 

नवाज शरीफ को भ्रष्टाचार के आरोपों के बीच इस साल प्रधानमंत्री पद छोड़ना पड़ा था. हालांकि उनके परिवार का कहना है कि उन्होंने कोई गलत काम नहीं किया है और उनके खिलाफ मुकदमे राजनीति से प्रेरित हैं. नवाज शरीफ के दोनों बेटों और वित्त मंत्री इसाक डार को भी एनएबी की अदालत में पेश होना है.

उम्मीद है कि सफदर को अदालत में पेशी के बाद रिहा कर दिया जाएगा. टीवी चैनलों पर दिखायी जा रही फुटेज में सत्ताधारी पीएमएल (एन) के सदस्यों ने एयरपोर्ट से सफदर को लेकर जा रही कार को रोकने की कोशिश की. कुछ लोग तो कार के आगे लेट गये. वहीं पीएमएल (एन) के एक वरिष्ठ नेता अपने कार्यकर्ताओं से रास्ता छोड़ने की अपील कर रहे थे.

उधर, पीएमएल (एन) कैबिनेट के एक मंत्री ख्वाजा साद रफीक ने ट्विटर पर कहा कि गिरफ्तारी का किसी भी तरह विरोध नहीं किया गया. हालांकि पार्टी ने इस पूरी न्यायिक प्रक्रिया को लेकर "आपत्ती" जताई है. 

मरियम नवाज समेत पीएमएल (एन) के कई वरिष्ठ नेताओं ने संकेत दिया है कि सुप्रीम कोर्ट की तरफ से नवाज शरीफ को अयोग्य करार दिये जाने के अदालती फैसले के पीछे पाकिस्तान की ताकतवर सेना के कुछ तत्वों का हाथ हो सकता है. हालांकि सेना ऐसे सभी आरोपों को खारिज करती है.

बहरहाल, विश्लेषकों का मानना है कि इस पूरे मामले के चलते पाकिस्तानी मुस्लिम लीग (नवाज) को आने वाले चुनावों में नुकसान उठाना पड़ सकता है. पाकिस्तान में अगले साल के मध्य तक चुनाव होने की संभावना है.

एके/एनआर (रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री