1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

पाकिस्तान में तेरे बिन लादेन की रिलीज के लिए गुहार

पाकिस्तान में फिल्म डिस्ट्रिब्यूटरों और सिनेमा मालिकों ने सेंसर बोर्ड से फिर अपील की है कि वह भारतीय फिल्म तेरे बिन लादेन को रिलीज करने की इजाजत दे. पाकिस्तानी सेंसर बोर्ड ने हमलों के डर से फिल्म की रिलीज को रोक दिया है.

default

ओसामा बिन लादेन का नाम फिल्म के लिए बना मुसीबत

भारत में 16 जुलाई को रिलीज हुई इस फिल्म में पाकिस्तान के पॉप स्टार अली जफर मुख्य भूमिका में हैं. वह इस फिल्म में ऐसे उत्साही पत्रकार का रोल निभा रहे हैं जो अमेरिका जाने के लिए अल कायदा के मुखिया ओसामा बिन लादेन की तरह दिखने वाले एक व्यक्ति का इस्तेमाल करता है.

पाकिस्तान में इस फिल्म के आधिकारिक डिस्ट्रिब्यूटर नदीन मंडीवाला कहते हैं, "सेंसर बोर्ड के अपीली बोर्ड के सामने हमने अपील दायर की है. लेकिन उन्होंने इस बारे में अपने फैसले को अगले हफ्ते तक के लिए सुरक्षित रखा है. इस फिल्म को रिलीज की अनुमित न देना हमारे लिए एक बड़ा धक्का है. हमें पक्का विश्वास है कि इस फिल्म की पायरेटिड कॉपी बाजार में मौजूद होंगी."

संस्कृति सचिव मोइनुल इस्लाम बुखारी का कहना है कि अपीली बोर्ड के सदस्यों के मौजूद न होने की वजह से फैसला लेने में देरी हो रही है, लेकिन अगले हफ्ते तक फैसला हो जाएगा. सेंसर बोर्ड ने यह कहते हुए इस फिल्म को रिलीज करने की अनुमित नहीं दी कि इससे भड़ककर उग्रवादी गुट हमले कर सकते हैं.

सेंसर बोर्ड की आपत्तियों के बारे में जब अली जफर से पूछा गया तो उन्होंने कहा, "यह सही बात है कि दूसरे मुस्लिम देशों के मुकाबले हमारे देश के अलग हालात हैं. लेकिन हमें इन हालात से लड़ना चाहिए. वरना इसका मतलब तो यह होगा कि खतरा बताकर एक दिन हम सब कुछ बंद कर देंगे. आप जिंदगी को बंद नहीं कर सकते हैं. मैं भी नहीं चाहता हूं कि हमारे देश में कुछ गलत हो."

जफर ने दोहराया है कि अधिकारी जो भी फैसला करेंगे, उन्हें मंजूर होगा. उनका कहना है, "मैं इस बात की गारंटी नहीं दे सकता हूं कि कुछ गलत नहीं होगा. मैं सेंसर बोर्ड के फैसले का स्वागत करता हूं और अब अपीली बोर्ड के फैसले का भी सम्मान करूंगा. मामला पूरी तरह से उन्हीं के हाथ में है."

रिपोर्टः एजेंसियां/ए कुमार

संपादनः वी कुमार