1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

पाकिस्तान में ईद पर बैन रहेंगी बॉलीवुड फिल्में!

पाकिस्तान में फिर बॉलीवुड फिल्मों पर बैन लगाने की तैयारी हो रही है. हालांकि यह बैन थोड़े समय के लिए ही होगा. अधिकारी मानते हैं कि ईद पर भारतीय फिल्मों पर रोक लगा कर पाकिस्तानी फिल्मों का थोड़ा बहुत भला हो सकता है.

default

ईद के दौरान बॉलीवुड नहीं

पाकिस्तान के संस्कृति मंत्री आफताब शाह जिलानी का कहना है, "ईद उल फितर के मौके पर भारतीय फिल्मों पर अस्थायी रोक लगाकर हम अपने फिल्म उद्योग को फायदा पहुंचाना चाहते हैं." उन्होंने कहा कि इस बारे में सरकार के भीतर चर्चा के बाद ही कोई फैसला किया जाएगा.

Flash-Galerie Afghanistan Land und Leute Bollywood in Kabul

जिलानी का कहना है कि पाकिस्तानी फिल्मकार अकसर यह शिकायत करते हैं कि सिनेमा मालिक बड़े बजट में बनने वाली बॉलीवुड की फिल्में दिखाना ही ज्यादा पसंद करते हैं. अमूमन भारत और पाकिस्तान में रिश्ते हमेशा खराब ही रहे हैं लेकिन पाकिस्तान में बॉलीवुड फिल्में खूब पसंद की जाती हैं. सरकार ने जब भारतीय फिल्मों पर बैन लगाया हुआ था तब भी बाजार में उनकी पाइरेटिड डीवीडी आसानी से मिल जाती थीं.

Arbaz Khan Pakistani film actor

पाकिस्तानी अदाकार

पिछले दो दशकों में पाकिस्तान का सिनेमा उद्योग गुमनामी के अंधरों में चला गया है. कुछ फिल्में बनती भी हैं तो उनकी क्वालिटी बहुत खराब होती है. सिनेमा की बदहाली के लिए बढ़ते इस्लामीकरण और मंदी को जिम्मेदार कहा जा सकता है. हालांकि आलोचकों का कहना है कि अगर सरकार फिल्म उद्योग में पैसा लगाए, तो इसका चेहरा बदल सकता है.

वैसे बॉलीवुड फिल्मों पर फिर से प्रतिबंध लगाने से गलत राजनीतिक संदेश जा सकता है. खासकर हाल ही में दोनों देशों के बीच नाकाम बातचीत के बाद इसकी आशंका और भी बढ़ गई है.

मंगलवार को इस्लामाबाद में जिलानी से मुलाकात के बाद पाकिस्तानी फिल्मकारों ने कहा कि वे भारतीय फिल्मों पर अस्थायी बैन का स्वागत करेंगे. पाकिस्तान की फिल्म प्रोड्यूसर संगीता ने कहा, "मंत्री ने हमें भरोसा दिया है कि सितंबर में ईद के मौके पर कोई भारतीय फिल्म नहीं दिखाई जाएगी." लेकिन पाकिस्तानी सिनेमा मालिकों की संस्था से जुड़े नदीम मंडवीवाला ने कहा है कि वह ऐसे किसी भी फैसला के खिलाफ अपील करेंगे. उन्हें इस बैन के चलते भारी घाटा होने की आशंका है.

रिपोर्टः एएफपी/ए कुमार

संपादनः एन रंजन

DW.COM

WWW-Links