1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

पाकिस्तान में आतंकी हमले में 8 की मौत

पाकिस्तान में एक आत्मघाती हमले में कम से कम 8 लोग मारे गए हैं और 21 घायल हो गए हैं. तालिबान ने हमले की जिम्मेदारी लेते हुए इसे पिछले हफ्ते फांसी पर लटकाए गए इस्लामी अभियुक्त का बदला बताया है.

वीडियो देखें 01:10

पाकिस्तान में आत्मघाती हमला

आत्मघाती हमलावर ने शबकादर शहर की अदालत पर सुबह के समय हमला किया जब वकील और वादी प्रतिवादी अपने मुकदमों की सुनवाई के लिए अदालत पहुंच रहे थे. इलाके के वरिष्ठ पुलिस अधिकारी फयाज खान ने समाचार एजेंसियों को बताया कि हमलावर ने खुद को अदालत परिसर के अंदर उड़ा लिया. शबकादर चारस्डडा जिले का हिस्सा है जहां उग्रपंथियों ने 20 जून को यूनिवर्सिटी पर हमला किया था. हमले में 21 लोग मारे गए थे.

पाकिस्तानी तालिबान के जमात उल अरहर धड़े ने हमले की जिम्मेदारी ली है और कहा है कि हमला मुमताज कादरी को फांसी पर चढ़ाए जाने के बदले में लिया गया है. मुमताज कादरी को पंजाब के उदारवादी गवर्नर सलमान तासिर की हत्या के दोष में फांसी दी गई थी. कादरी देश में ईशनिंदा कानून में सुधारों की मांग कर रहे थे जिसका इस्तेमाल इस्लाम की आलोचना करने वालों के अलावा प्रतिद्वंद्वियों को फंसाने के लिए किया जाता है.

कादरी को इस्लामी कट्टरपंथी अपना हीरो मानते थे. उसे पिछले सोमवार को फांसी पर चढ़ा दिया गया था. प्रेक्षकों ने इसे उग्रपंथ के खिलाफ पाकिस्तान की लड़ाई में अहम क्षण बताया था जो कानून के राज्य की स्थापना की सरकार की प्रतिबद्धता को दिखाता है. कादरी के अंतिम संस्कार में लाखों लोगों ने हिस्सा लिया था. तालिबान के प्रवक्ता एहसानुल्लाह एहसान ने समाचार एजेंसी एएफपी को बताया कि पाकिस्तान में न्यायपालिका के गैर इस्लामिक कानूनों को मजबूत करने की कोशिशें करने के कारण ही कोर्ट को हमले के लिए निशाना बनाया गया है.

पुलिस के अनुसार हमले में मरने वालों में कम से कम एक महिला शामिल है जबकि दो बच्चे घायल हुए हैं. स्थानीय चैनलों पर हमले के बाद की तस्वीरें दिखाई जा रही हैं. घायलों को तुरंत अस्पताल ले जाया गया है. चारसड्डा जिले के पुलिस प्रमुख सोहैल खालिद ने कहा है कि मरने वालों में दो पुलिसकर्मी भी शामिल हैं जिन्होंने हमलावर को रोकने की कोशिश की थी. स्थानीय बार एसोसिएशन के प्रमुख शायर कादिर ने पुलिस की विफलता की शिकायत करते हुए कहा है कि हमले की धमकी मिलने के बाद उन्होंने पुलिस के सुरक्षा मांगी थी, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई.

शबकादर मोहमंद कबायली जिले के निकट स्थिति है जो अफगानिस्तान की सीमा पर स्थित पाकिस्तान के पांच अर्द्ध स्वायत्त इलाकों में है. पहले पूर्व में यह इलाका अल कायदा और तालिबान का अड्डा रह चुका है. इस्लामाबाद ने 2014 में उग्रपंथियों के खिलाफ कबायली इलाकों में व्यापक सैनिक अभियान छेड़ा और हजारों उग्रपंथियों को मार डाला जबकि बाकी अफगानिस्तान में भागने को मजबूर हो गए. लेकिन पाकिस्तानी तालिबान के धड़े समय समय पर अफगानिस्तान के अपने अड्डों से हमला करते रहते हैं.

एमजे/आरपी (एएफपी, रॉयटर्स)

DW.COM

इससे जुड़े ऑडियो, वीडियो

संबंधित सामग्री