1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

पाकिस्तान के हेडली मामले का जवाब देगा भारत

भारत डेविड हेडली से मिली जानकारी पाकिस्तान के साथ बांटेगा. हेडली के खुलासे को लेकर पाकिस्तान ने यह जानकारी मांगी है. इस्लामाबाद ने हेडली कैसे भारत घूमा, क्या उसके बारे में भारत को पहले से पता था जैसे सवाल किए हैं.

default

डेविड हेडली का स्केच

अमेरिका में गिरफ्तार हेडली को लेकर पाकिस्तान ने भारत से 47 सवाल किए हैं. पूछा गया है कि क्या हेडली के भारत दौरे की जानकारी भारतीय सुरक्षा एजेंसियों को थी, क्या भारत में हेडली पर किसी तरह की निगरानी रखी गई थी, हेडली ने होटल का बिल कैसे दिया, भारत में घूमते वक्त हेडली ने यातायात के किन साधनों का इस्तेमाल किया. भारत में हेडली किस किस से मिला और फिल्म निर्माता महेश भट्ट के बेटे से उसकी मुलाकात का ब्यौरा भी मांगा गया है.

भारतीय गृह मंत्री पी चिदंबरम ने अधिकारियों से कहा कि पाकिस्तान के सभी सवालों का जवाब दिया जाए. हालांकि भारत पहले भी हेडली से हुई पूछताछ का ब्यौरा पाकिस्तान को दे चुका है. पहले दिए गए भारतीय डोजियर में पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई का भी जिक्र किया गया था.

Flash-Galerie Anschläge Mumbai Indien 2008

हेडली ने यह खुलासा किया था कि मुंबई हमलों में पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई पूरी तरह शामिल थी. भारतीय सूत्रों का कहना है कि यह सारी बातें बताने के बाद पाकिस्तान बेवजह की अड़चनें खड़ी कर रहा है. ताकि हेडली के खुलासे में सामने आए चेहरों और संस्थाओं को बचाया जा सके.

इस्लामाबाद के इस कदम को भारत शक की नजर से देख रहा है. भारतीय अधिकारियों का मानना है कि पाकिस्तान जानबूझ कर मुंबई हमलों का मामला लंबा खींचना चाह रहा है. इसीलिए वह आए दिन नई नई मांगें रख रहा है. पाकिस्तान में मुंबई हमलों के आरोपियों के खिलाफ मुकदमा चल रहा है. मुकदमा अब भी शुरुआती चरण में ही है.

हेडली लश्कर ए तैयबा का संदिग्ध आतंकवादी है. उस पर मुंबई हमलों की साजिश रचने का आरोप है. पाकिस्तानी मूल का नागरिक हेडली 2006 से 2009 के बीच कई बार भारत आया. हेडली को अमेरिकी संघीय जांच एजेंसी एफबीआई ने गिरफ्तार किया है. भारतीय अधिकारी हेडली से अमेरिका जाकर पूछताछ कर चुके हैं. पाकिस्तान इसी पूछताछ का ब्यौरा मांग रहा है. हालांकि पाकिस्तान अमेरिका के आतंकवाद के खिलाफ युद्ध का सबसे बड़ा भागीदार है लेकिन हेडली से उसने खुद पूछताछ नहीं की है और न ही इसके लिए कोई पहल की है.

रिपोर्ट: पीटाआई/ ओ सिंह

संपादन: ए जमाल

DW.COM