1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

पाकिस्तान की बातचीत की पेशकश

पाकिस्तान ने नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में बनने वाली बीजेपी सरकार के साथ शर्तों से मुक्त होकर सभी मुद्दों पर बातचीत की पेशकश की है. उधर पुंछ में नियंत्रण रेखा के आर पार के कारोबारियों की एक साल से रुकी बातचीत हो रही है.

पाकिस्तानी उच्चायुक्त अब्दुल बासित ने लोकसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद पहली बार भारतीय पत्रकारों के साथ बातचीत में कहा कि बातचीत शर्तों की बेड़ी से मुक्त माहौल में होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने खुद शुक्रवार को भावी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को फोन किया और उनकी पार्टी की शानदार जीत के लिए बधाई देने के साथ उन्हें पाकिस्तान आने का न्यौता दिया. बासित ने कहा, "पाकिस्तान अपनी विदेश नीति में अमन को शीर्ष प्राथमिकता दे रहा है और हमारा यह मानना है कि क्षेत्र में शांति कायम होना दोनों मुल्कों और पूरे क्षेत्र के हक में है."

बासित ने अमन कायम करने के लिए आपस में बातचीत को जरूरी बताते हुए कहा कि बातचीत की प्रक्रिया के साथ किसी प्रकार की शर्त नहीं जुड़ी होनी चाहिए. शर्तों में बंधी बातचीत कारगर साबित नहीं होती. उन्होंने कहा, "हमें अतीत की तल्खियों को किनारे रखते हुए भविष्य पर निगाह रखनी चाहिए. हमें कलह से मुक्त सकारात्मक माहौल में बातचीत करनी होगी और यह तभी संभव है जब हम एक दूसरे से सार्थक बातचीत करें."

भारत और पाकिस्तान के बीच तल्खी के कारण नियंत्रण रेखा के आरपार व्यवसाय करने वाले व्यापारियों की पिछले करीब एक वर्ष से रुकी हुई अहम व्यापार वार्ता जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले में चकन दा बाग में हो रही है. पुंछ के उपायुक्त सज्जाद अहमद खान ने कहा कि लंबित मुद्दों के हल के लिए करीब 14 माह से रुकी बातचीत 20 मई को हो रही है.

जम्मू-कश्मीर और पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर के व्यापारियों के प्रतिनिधिमंडलों के बीच व्यापार तथा बकाया भुगतान और वस्तुओं के आयात और निर्यात से जुड़े मुद्दों पर बातचीत होगी. भारत की ओर से सज्जाद अहमद खान के अलावा जम्मू चैंबर्स ऑफ कामर्स के अध्यक्ष वाईवी शर्मा तथा क्रॉस एलओसी ट्रेडर्स एसोसिएशन पुंछ के पदाधिकारी वार्ता में शामिल होंगे जबकि पाकिस्तान की ओर से उसके व्यापार महानिदेशक और वहां के व्यापारी संगठनों के नुमाइंदे होंगे.

दोनों ओर के व्यापारी आपासी दिक्कतों के निबटारे के लिए हर तीन महीने में मिलते हैं, लेकिन दोनों देशों के बीच सीमा पर तनाव होने के कारण यह वार्ता स्थगित कर दी गयी थी. वाईवी शर्मा ने बताया कि बातचीत ठप होने के कारण दोनों ओर के व्यापारियों की समस्याएं सुलझ नहीं रही थीं. व्यापार के लिए आपसी मेलजोल जरूरी है. उन्होंने कहा कि दोनों ओर के व्यापारी बैठकर लंबित मुद्दों का हल निकालेंगे.

क्रॉस एलओसी एसोसिएशन पुंछ के पवन आनंद ने व्यापार वार्ता शुरू होने पर खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि दोनों देशों के बीच तल्खी होने के कारण व्यापारी परेशान हैं. विवादों के लंबित होने के कारण उनकी भुगतान की मोटी रकम फंस गयी है. खान ने बताया कि बातचीत के लिए व्यापारियों के दबाव बनाने के बाद दोनों देश के अधिकारी इस बैठक के लिए तैयार हुए.

एमजे/आईबी (वार्ता)

संबंधित सामग्री