1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

पहले फुटबॉल, बाद में तोड़ फोड़

वर्ल्ड कप में अगर ब्राजील और अर्जेंटीना का आमना सामना हुआ तो सुरक्षा एजेंसियों की आफत आ जाएगी. बड़ी संख्या में ब्राजील पहुंचे अर्जेंटीना के फैंस पर हुड़दंग मचाने के आरोप लग रहे हैं. फैंस में आपसी झड़पें भी हो रही हैं.

लियोनेल मेसी के शानदार दो गोलों की बदौलत अर्जेंटीना ने ग्रुप स्टेज के आखिरी मैच में नाइजीरिया को 3-2 से मात तो दे दी, लेकिन इसके बाद पोर्टो अलेग्रे में स्टेडियम के बाहर काफी हंगामा हुआ. अर्जेंटीना के फैंस बार में गए, वहां गुरुवार तड़के उनकी स्थानीय लोगों से झड़प हो गई. देखते ही देखते बंदूक निकल गई. अर्जेंटीना के एक फैन की टांग में गोली लगी है. अर्जेंटीना की न्यूज एजेंसी ने भी फायरिंग की पुष्टि की है.

इस दूसरे मामले में पोर्टो अलेग्रे में पुलिस ने टिकट चुराने के आरोप में अर्जेंटीना के छह लोगों को गिरफ्तार किया है. ब्राजील में अर्जेंटीना के फैंस की छवि बहुत अच्छी नहीं हैं. उन्हें कुख्यात उपद्रवी कहा जाता है. यही वजह है कि अर्जेंटीना की घरेलू फुटबॉल लीग के दौरान हिंसा करने वाले कई अर्जेंटीनियाइयों को ब्राजील ने देश में घुसने ही नहीं दिया.

लेकिन कुछ दूसरी टीमों के मैचों के बाद भी हिंसक घटनाएं हुई हैं. उरुग्वे और इंग्लैंड के मैच के दौरान इंग्लिश फैंस पर बोतलें फेंकी गईं. उन पर पटाखे भी फेंके गए. इस मामले में साओ पाओलो पुलिस ने 50 से ज्यादा उपद्रवियों को गिरफ्तार किया है.

पुलिस को आशंका है कि अगर ब्राजील और अर्जेंटीना के बीच मैच हुआ तो काफी तनाव होगा. अर्जेंटीना (ग्रुप एफ) और ब्राजील (ग्रुप ए) अपने अपने ग्रुप में शीर्ष पर हैं. सेमीफाइनल तक दोनों टीमों के टकराने की संभावना नहीं है. अगर दोनों जबरदस्त फुटबॉल खेलते रहे तो 12 जुलाई को रियो दे जनेरो के माराकाना स्टेडियम में दोनों का सामना हो सकता है. ब्राजील के सुरक्षा अधिकारी दुआ कर रहे हैं कि ऐसी नौबत न आए.

ओएसजे/एमजे (रॉयटर्स)