1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

पहली बार तस्वीर में आए रोमन सम्राट

चौथी सदी में जब रोमन साम्राज्य का पतन हुआ तब कैमरा नहीं हुआ करता था. इसलिए आज जैसी तस्वीरें तो नहीं लेकिन अब पुलिस के कलाकारों के पास अनजान लोगों की तस्वीर बनाने की कला है. उन्हें पता है कि रोमन काल के लोग कैसे दिखते थे.

उस जमाने में कैमरे भले ही न हों ऐसे कलाकार जरूर हुआ करते थे जो पत्थरों पर कारीगरी किया करते थे. साम्राज्य के पतन के समय की पत्थरों पर उकेरी तस्वीरें जरूर मिली हैं. सैनिकों, ओलंपिक खिलाड़ियों, शासकों की तस्वीरें. रोमन सम्राट ऑगुस्टस की मौत के 2000 साल बाद जर्मन प्रांत नॉर्थराइन वेस्टफेलिया के प्रांतीय अपराध कार्यालय ने रोमन शासक का फैंटम चित्र बनाया है. अपराध कार्यालय के एक्सपर्ट आम तौर पर लोगों के वर्णन के आधार पर भगोड़े अपराधियों की तस्वीरें बनाते हैं.

Phantombild des römischen Kaisers Augustus - jung

युवा ऑगुस्टस

अब उन्होंने सम्राट ऑगुस्टस की अलग अलग उम्र में तीन तस्वीरें जारी की है. अपराधियों की खोज में मदद करने वाले दस्ते ने सम्राट की तस्वीर बनाकर उसे कंप्यूटर पर बूढ़ा होने दिया. तस्वीर बनाने के लिए युवा ऑगुस्टस की एक मूर्ति की मदद ली गई. पुलिस के एक्सपर्टों ने ऑगुस्टस की तस्वीर बनाने में उपलब्ध किताबों में उनके बारे में बताई गई बातों की भी मदद ली.

इन कंप्यूटर तस्वीरों को ऑगुस्टस की मृत्यु की 2000 वीं वर्षगांठ पर जर्मनी और नीदरलैंड्स के म्यूजियमों की साझा प्रदर्शनी में दिखाया जाएगा. एक म्यूजियम के प्रवक्ता के अनुसार इन तस्वीरों को आखेन के संग्रालय में संभवतः नवंबर से दिसंबर तक प्रदर्शित किया जाएगा. ये तस्वीरें सम्राट ऑगुस्टस को युवावस्था में दिखाने के अलावा 50 और 70 की उम्र में दिखाती हैं.

Phantombild des römischen Kaisers Augustus - mittleren Alters

अधेड़ ऑगुस्टस

इन तस्वीरों का बनाने का विचार आखेन के प्रसिद्ध यूनिवर्सिटी आरडब्ल्यूटीएच के इतिहासकार क्लाउस शैर्बेरिष के दिमाग में आया था. उन्होंने शिकायत की थी कि सम्राट ऑगुस्टस की आदर्शवादी तस्वीरें ही उपलब्ध हैं, अब तक किसी ने असली दिखने वाली तस्वीर नहीं बनाई है. प्रांतीय पुलिस के एक बयान में कहा गया है कि अब यह कमी दूर कर ली गई है. ऑगुस्टस का जन्म 63 ईसा पूर्व 23 सितंबर को गाइउस ओक्टाविउस के रूप में रोम में हुआ था और उन्हें रोमन साम्राज्य का पहला सम्राट माना जाता है. उनकी मृत्यु 14 ईस्वी में 19 अगस्त को हुई.

भारत में प्राचीन और मध्यकाल के राजाओं और प्रमुख शख्सियतों की असली तस्वीरें उपलब्ध नहीं है. जर्मन अपराध कार्यालय की तकनीक का इस्तेमाल कर अब उनके अलावा रामायण और महाभारत काल के व्यक्तित्वों की भी तस्वीर बनाई जा सकेगी.

एमजे/ओएसजे (डीपीए)