1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

पल भर में विलेन बने पाकिस्तानी क्रिकेटर

मैच फिक्सिंग के आरोपों के बाद मोहम्मद आसिफ और मोहम्मद आमेर की जमकर आलोचना. पाकिस्तान को वर्ल्ड कप जिताने वाले कप्तान इमरान खान ने दोषियों को कड़ी सजा देने की मांग की है. आमेर की प्रतिभा पर मैच फिक्सिंग की कालिख पुती.

default

मोहम्मद आमेर जब 15 साल के थे तो उन पर क्रिकेट जगत के महान गेंदबाजों में गिने जाने वाले वसीम अकरम की नजर पड़ी. लाहौर में अकरम ने आमेर को अपने पास बुलाया और उन्हें गेंदबाजी के गुर सिखाए. इसके बाद आमेर अंडर-19 में धमाकेदार प्रदर्शन करते हुए राष्ट्रीय टीम में आए.

फिलहाल उनकी उम्र 18 साल है. उन्होंने 14 टेस्ट मैचों में 51 विकेट झटके हैं. तीन बार ऐसे मौके आए जब उन्होंने एक ही पारी में पांच विकेट लिए, दो बार चार-चार विकेट. आमेर के इस प्रदर्शन के बाद कहा जाने लगा कि वह वसीम अकरम जैसे खतरनाक गेंदबाज हैं.

लेकिन अब मैच फिक्सिंग के आरोपों के बाद लोगों को सबसे ज्यादा नाराजगी उन्हीं से हो रही है. पूर्व चयनकर्ता इकबाल कासिम कहते हैं, ''मैं आमेर पर नाराज हूं. वह सिर्फ 18 साल के हैं और ऐसे घिनौने विवाद में फंस रहे हैं."

Imran Khan

कड़ी सजा दो: इमरान

ओवल में खेले गए तीसरे टेस्ट में इंग्लैंड को हराने के बाद आमेर और आसिफ को पाकिस्तान के दो हीरे कहा जा रहा था. अब कई आलोचक उन्हें टीम से हमेशा के लिए बाहर करने की मांग कर रहे हैं. मौजूदा दौर के दो सबसे प्रतिभाशाली तेज गेंदबाज विलेन की छवि में घुसते चले जा रहे हैं.

पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेट कप्तान इमरान खान भी दोषियों को कड़ी सजा देने की वकालत कर रहे हैं. एक इंटरव्यू में इमरान ने कहा, ''मुझे लगता है कि युवाओं को यह संदेश देने की जरूरत है कि अपराध उन्हें ही नुकसान पहुंचाता है. मुझे मीडिया रिपोर्टों से मैच फिक्सिंग की खबर मिली है. मैं दुआ करता हूं कि ये खबरें सही न हों. लेकिन अगर मैच फिक्सिंग हुई है, तो दोषियों को कड़ी सजा देनी चाहिए.''

रिपोर्ट: एजेंसियां/ओ सिंह

संपादन: ए कुमार

DW.COM