1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

पर्यटकों को बुलाती झुग्गियां

छुट्टियां बिताने जाएंगे तो कहां ठहरेंगे, होटल में या झुग्गी में. फुटबॉल वर्ल्ड कप के लिए ब्राजील जाने वाले कई खेल प्रेमी शायद ही महंगे होटलों में रह सकें इसीलिये वहां झु्ग्गियों को भी संवारा जा रहा है.

महंगे होटलों के मामले में रियो डे जेनेरो दुनिया का तीसरा महंगा शहर है. न्यूयॉर्क और पेरिस के होटलों के बाद यहां पर्यटकों को होटल की भारी कीमत चुकानी पड़ती है. एक रात का औसत किराया है 247 डॉलर यानी करीब 14,700 रुपये. माना जा रहा है कि अगले महीने से शुरू होने वाले फुटबॉल वर्ल्ड कप के दौरान होटलों का किराया 693 डॉलर तक पहुंच सकता है.

लेकिन इतनी ऊंची हर कोई नहीं चुका सकता, इसीलिए 12 शहरों में 60 "लव होटलों" को खेल प्रेमियों के लिए तैयार किया गया है. आम तौर पर लव होटलों का इस्तेमाल प्रेमी जोड़े किया करते हैं. वे घंटे के हिसाब से किराया दिया करते हैं. रियो होटल संघ के अल्फ्रेडो लोप्स के मुताबिक इन्हें अब विदेशी पर्यटकों की पसंद के मुताबिक ढाला जा रहा है. संघ के मुताबिक उनके पास लव होटलों के 1,000 कमरे हैं जिनका किराया 100 डॉलर से 375 डॉलर प्रति रात है लेकिन यह भी कम नहीं.

फुटबॉल महाकुंभ को झुग्गी बस्ती में रहने वाले ब्राजीलियाई भी कमाई का अच्छा मौका मान रहे हैं. 42 साल की क्रिस्टियाने डे ओलिविएरा ने अपने तीन कमरे बैगपैकर्स टूरिस्टों को दे रही हैं. कमरों के साथ बाथरूम भी है और वाईफाई भी. वर्ल्ड कप के दौरान एक रात का किराया 45 डॉलर रहेगा.

पाब्लो गोमेज ने पिछले ही साल रियो के बाहर के पिछड़े इलाके में ग्रीन कल्चर हॉस्टल खोला है. उसमें 25 लोग ठहर सकते हैं. गोमेज कहते हैं, "वर्ल्ड कप के दौरान इसका किराया कार्निवाल के ही बराबर होगा, एक दिन का 54 से 63 डॉलर."

गोमेज के हॉस्टल में ठहरीं 25 साल की स्वीडिश युवती मिरियम ग्लेयर कहती हैं, "यहां हर कोई एक दूसरे को जानता है. आस पास कुछ अच्छे बार और रेस्तरां भी हैं. माहौल दोस्ताना है और यह कुदरत के करीब भी है." ब्राजील में इस वक्त 9,000 से ज्यादा मकान खेल प्रेमियों के लिए खाली हैं. इनमें से ज्यादातर पिछड़े इलाकों में हैं. उम्मीद है कि 12 जून से 13 जुलाई तक चलने वाले फुटबॉल वर्ल्ड कप के दौरान चार से छह लाख विदेश पर्यटक ब्राजील आएंगे.

ओएसजे/एएम (एएफपी)

DW.COM