1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

पर्दाफाश करने वालों की सुरक्षा का कानून

भारत में धांधलियों और गड़बड़ियों का पर्दाफाश करने वालों की सुरक्षा का कानून बनेगा. इसके प्रस्ताव को कैबिनेट ने हरी झंडी दे दी है. इसके मुताबिक जो लोग इनके नाम सामने लाएंगे, उन्हें कड़ी सजा मिल सकती है.

default

सरकारी सूत्रों ने बताया कि इस कानून के तहत केंद्रीय सतर्कता आयोग को इस बात का अधिकार होगा कि वह किसी अदालत की तरह उन लोगों पर कड़ा जुर्माना लगाए, जो धांधलियों का पर्दाफाश कर रहे लोगों की पहचान सामने ला रहे हों. इसके लिए जनहित पर्दाफाश और पर्दाफाश करने वालों की सुरक्षा कानून, 2010 पर केंद्रीय कैबिनेट ने मुहर लगा दी.

इस विधेयक के तहत केंद्र, राज्य सरकार और निजी कंपनियों में घोटालों और गड़बड़ियों का पर्दाफाश करने वालों (व्हिसिलब्लोअर) की सुरक्षा होगी और उनके खिलाफ कदम उठाने वालों पर कार्रवाई की जा सकेगी. इस विधेयक के जरिए उन लोगों को बढ़ावा देने की कोशिश होगी, जो धांधलियों को उजागर करना चाहते हैं.

इस मामले में किसी भी संस्था के खिलाफ शिकायत देखने वाली सर्वोच्च संस्था सीवीसी यानी केंद्रीय सतर्कता आयोग ही होगी. रिपोर्टों के मुताबिक जो लोग इस बिल का गलत इस्तेमाल करने की कोशिश करेंगे, उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी.

करीब आठ साल पहले सत्येंद्र दुबे ने प्रधानमंत्री सड़क परियोजना में एक बड़े घोटाले का पर्दाफाश किया. लेकिन बाद में उनकी हत्या हो गई. इसी तरह इंडियन ऑयल में भ्रष्टाचार को उजागर करने वाले मंजूनाथ और पिछले साल सूचना अधिकार कार्यकर्ता सतीश शेट्टी की हत्या कर दी गई.

रिपोर्टः पीटीआई/ए जमाल

संपादनः आभा एम