1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

परमाणु कचरे के खिलाफ जर्मनी में प्रदर्शन

जर्मन पुलिस और विरोधी प्रदर्शनकारियों के बीच झड़पों में सैंकड़ों लोग घायल हुए. यह लोग परमाणु कचरा ले जाने वाली एक ट्रेन की पटरी के सामने प्रदर्शन कर रहे थे.

default

पुलिस की एक प्रवक्ता ने ल्यूनेबुर्ग शहर के पास कहा, "पुलिस और प्रदर्शनकारी दोनों घायल हुए, लेकिन मेरे पास सही आंकड़े नहीं हैं." उन्होंने कहा कि एक महिला प्रदर्शनकारी पुलिसकर्मी के एक घोड़े से घायल हो गई. उसके कंधे की हड्डी टूट गई. उसका इलाज कर उसे वहीं से घर भेज दिया गया. प्रदर्शनकारियों ने पुलिस लाइनें तोड़ीं और गाड़ी को रोकने के लिए अपने आप को ट्रेन की पटरियों से जंजीरों के जरिए बांध लिया.

गाड़ी में 123 टन परमाणु कचरा है. शुक्रवार को ट्रेन फ्रांस से चली थी. रविवार को कई प्रदर्शनों की वजह से रेलगाड़ी को पहुंचने में देरी हुई. परमाणु कचरा लिए मालगाड़ी ल्यूनेबुर्ग के रास्ते पश्चिमोत्तर में डानेनबेर्ग जा रही है. डानेनबेर्ग से कचरा फिर एक कचरे के भंडार में ले जाया जाएगा. यह भंडार केंद्रीय जर्मन शहर गोरलेबेन में है. अधिकारियों के मुताबिक इस

Castor-Transport Flash-Galerie

कचरे का ट्रीटमेंट फ्रांस में अरेवा कंपनी द्वारा किया गया लेकिन कार्यकर्ताओं का कहना है कि गोरलेबेन का भंडार कचरा रखने के लिए सही नहीं है.

जर्मन चांसलर अंगेला मैर्केल का कहना है कि ऊर्जा को सस्ता रखने के लिए परमाणु रिएक्टरों को पूरी तरह खत्म नहीं किया जा सकता और नवीनीकृत ऊर्जा को बाजार के योग्य बनाने के लिए कुछ सालों तक ऐसा ही करना होगा. लेकिन परमाणु ऊर्जा के आलोचकों का कहना है कि जर्मनी के सबसे बड़ी ऊर्जा कंपनियों को इससे जबरदस्त फायदा होगा.

रिपोर्टः एजेंसियां/एमजी

संपादनः वी कुमार

DW.COM

WWW-Links

संबंधित सामग्री