1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

पढ़ाई के मामले में सबसे पीछे हैं हिंदू

प्यू रिसर्च सेंटर के एक अध्ययन में हिंदुओं को दुनिया भर में सबसे कम पढ़ा लिखा धार्मिक समुदाय बताया गया है.

प्यू का कहना है, "हाल के दशकों में हिंदुओं ने शिक्षा के मामले में खासी प्रगति की है. हिंदू वयस्क (25 साल या उससे ज्यादा उम्र के) लोगों का इस अध्ययन में विश्लेषण किया गया है. इन लोगों ने पुरानी पीढ़ी के मुकाबले स्कूल में औसत 3.4 वर्ष ज्यादा बिताया है." हालांकि अन्य धर्मों के लोगों मुकाबले हिंदुओं में शिक्षा का स्तर सबसे कम है.

दुनिया भर में लोगों को मिली स्कूली शिक्षा का औसत 5.6 वर्ष है जबकि 41 प्रतिशत हिंदुओं ने कभी कोई औपचारिक शिक्षा हासिल नहीं की है. महिला शिक्षा के मामले में हुई हालिया प्रगति के बावजूद भारत इस मामले में अभी बहुत पीछे है. 'दुनिया भर में शिक्षा और धर्म' शीर्षक वाली यह 160 पन्नों की रिपोर्ट कहती है कि दुनिया में यहूदी पढ़ाई में सबसे आगे हैं.

151 देशों की गणगणना और सर्वे डाटा के आधार पर तैयार प्यू की रिपोर्ट में कहा गया है कि दुनिया के कई देशों में शिक्षा हासिल करने के मामले में बड़ा लैंगिक अंतर दिखाई देता है. इसके मुताबिक, "दुनिया भर में मुस्लिम महिलाओं का औसत स्कूलिंग समय 4.9 वर्ष है जबकि मुसलमान पुरुषों में यह 6.4 वर्ष है."

हिंदुओं की बात करें तो महिला और पुरुषों के स्कूलिंग के सालों में 2.7 वर्ष का अंतर है. 53 प्रतिशत हिंदू महिलाएं कभी स्कूल नहीं गईं जबकि हिंदू पुरुषों में यह आंकड़ा 29 प्रतिशत है. आज की पीढ़ी में भी महिलाओं के शिक्षा हासिल करने की संभावना पुरुषों के मुकाबले कम मानी जाती है.

दुनिया भर में हिंदुओं की बड़ी यानी 94 प्रतिशत आबादी भारत में रहती है. दुनिया के 2.3 प्रतिशत नेपाल में जबकि 1.2 प्रतिशत बांग्लादेश में रहते हैं. प्यू का कहना है, "इन तीन देशों में हिंदुओं का शैक्षिक स्तर कम है. भारत में हिंदू औसतन 5.5 वर्ष स्कूल जाते हैं जबकि नेपाल और बांग्लादेश में यह संख्या क्रमशः 3.9 और 4.6 साल है."

रिपोर्ट कहती है कि एशिया प्रांत क्षेत्र में हिंदुओं की आबादी काफी कम है लेकिन उनका शैक्षिक स्तर बेहतर है. वहां के कई देशों में हिंदू सबसे ज्यादा पढ़ा लिखा वर्ग है. उधर अमेरिका में हिंदू 15.7 साल स्कूल जाते हैं जबकि इस मामले में अमेरिका का कुल औसत 12.9 वर्ष है. अमेरिका में तो हिंदुओं ने यहूदियों को भी पीछे छोड़ रखा है. वहीं यूरोप में हिंदू सबसे पढ़े लिखे तबके में शामिल है जहां हिंदू लोग 13.9 साल स्कूल में बिताते हैं.

एके/वीके (पीटीआई)

DW.COM