1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

पंजाब में आतंकवादी हमला, 11 की मौत

पंजाब के सीमावर्ती गुरदासपुर जिले के दीनानगर में सेना की वर्दी में आए आतंकियों को मार गिराया गया है. दस घंटे से अधिक चली मुठभेड़ में पांच पुलिसकर्मियों सहित 11 लोगों की मौत हो गयी है और कई लोग घायल हुए हैं.

गृह मंत्रालय के अनुसार आतंकवादी सीमा पार से आए थे. इनके जैश ए मोहम्मद या लश्कर ए तैयबा से जुड़े होने की आशंका है. मंत्रालय ने बताया है कि सुरक्षा बलों ने इस इलाके को पूरी तरह घेरा हुआ है. वहां अब गोलीबारी पूरी तरह रुक गयी है और तीन आतंकवादी मारे गए हैं. एक पुलिस अधीक्षक सहित पांच पुलिसकर्मी मारे गए हैं.

इस बीच पठानकोट-अमृतसर रेल खंड पर पांच बम भी बरामद किए गए हैं, जिन्हें सेना के विशेषज्ञों ने निष्क्रिय कर दिया. पंजाब पुलिस के महानिरीक्षक ईश्वर चंद्र शर्मा ने बताया कि जवानों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ दस घंटे से ज्यादा जारी रही. उन्होंने कहा कि आतंकवादी थाने से सटी एक दूसरी इमारत में मौजूद थे. मीडिया रिपोर्टों के अनुसार सेना को भी इस अभियान में शामिल किया गया. आतंकवादी बड़ी मात्रा में हथियार और गोला बारूद तथा बंदूकों से लैस थे.

तलाशी अभियान जारी

आतंकी हमले के मद्देनजर थाने के आसपास के लगभग दो किलोमीटर के क्षेत्र को पूरी तरह से सील कर दिया गया है. लोगों को बाहर न निकलने की हिदायत दी गई है. जिला प्रशासन ने एहतियात के तौर पर स्कूल और कॉलेज बंद कर दिए गए. निकटवर्ती अंतरराष्ट्रीय सीमा पर अलर्ट के साथ वहां अधिक संख्या में सीमा सुरक्षा बल को तैनात किया गया है. सुरक्षा बलों ने सीमा के आसपास और आतंकियों के मौजूद होने की आशंका के चलते इलाके में तलाशी अभियान भी शुरू किया है. आतंकियों पर नजर रखने और उन पर हवाई कार्रवाई करने की रणनीति के तहत सेना के हेलीकॉप्टरों की सेवाएं भी ली जा रही हैं.

आशंका जताई जा रही है कि आतंकवादी संभवत: निकटवर्ती पाकिस्तान से लगती अंतरराष्ट्रीय सीमा से सेना की वर्दी में भारतीय क्षेत्र में घुसे. अनुमान है कि भारतीय क्षेत्र में घुसने के बाद उन्होंने दीनानगर से लगभग 11 किलोमीटर दूर पठानकोट-अमृतसर रेल खंड पर पटरी पर बम लगाए. आतंकवादी सुबह लगभग पांच के करीब दीनानगर क्षेत्र में पहुंचे जहां उन्होंने सबसे पहले एक कार को रोका और चालक को गोली मार कर कार के साथ फरार हो गए. रास्ते में कार से उतर कर जम्मू जा रही पंजाब रोडवेज की एक बस पर गोलीबारी की जिसमें कई लोगों के घायल हो गए. बाद में वे दीनानगर थाने में घुसे और सबसे पहले संतरी को गोलीमार कर घायल कर दिया. इसके बाद उन्होंने थाने में अंधाधुंध फायरिंग की जिससे थाने से सटे अस्पताल में भर्ती मरीज भी इसकी चपेट में आ गए. हमले में कई पुलिसकर्मी घायल हुए हैं.

संसद में बयान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्थिति का जायजा लेने के लिए वरिष्ठ मंत्रियों और अधिकारियों के साथ बैठक की जिसमें गृह सचिव एलसी गोयल और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोवाल भी मौजूद थे. गृह मंत्रालय ने बताया कि स्थिति की समीक्षा के लिए शाम को गृहमंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में एक बैठक बुलाई गयी है जिसमें रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर, गृह सचिव एलटी गोयल और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहाकार अजित डोभाल और गुप्तचर विभाग तथा सुरक्षा बलों के प्रतिनिधि हिस्सा लेंगे. आतंकवादी हमले पर संसद में उठे हंगामे के बीच केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि वे हमले के बारे में मंगलवार को संसद में बयान देंगे.

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने पंजाब के आतंकवादी हमले को जम्मू हमलों जैसा बताते हुए अभियान में शामिल सुरक्षाबलों की सुरक्षा को लेकर सवाल उठाया. नेशनल कांफ्रेंस के कार्यकारी अध्यक्ष ने माइक्रो ब्लाॅगिंग साइट टि्वटर पर लिखा, “आज सुबह गुरदासपुर हमले में शामिल आतंकवादियों की पहचान उजागर होते देखना चाहता हूं. इस हमले का समय, तरीका और स्थान जम्मू के सीमावर्ती इलाके में हुए हमलों की तरह ही है.” अब्दुल्ला ने सुरक्षा बलों की सुरक्षा पर सवाल उठाते हुए कहा “बुलेटप्रूफ जैकेट और हेलमेट कहां हैं. उनके सिर और सीने से ज्यादा घुटने सुरक्षित हैं.”

आईबी/एमजे (वार्ता)

DW.COM

संबंधित सामग्री