न्यूजीलैंड में भूकंप से भारी नुकसान | जर्मन चुनाव 2017 | DW | 03.09.2010
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

न्यूजीलैंड में भूकंप से भारी नुकसान

न्यूजीलैंड के दूसरे सबसे बड़े शहर क्राइस्टचर्च में रिक्टर पैमाने पर 7 की तीव्रता वाला भूंकप आया. कई इमारतों को भारी नुकसान, बिजली व्यवस्था ठप. लेकिन किसी के हताहत होने की खबर नहीं. शहर में घबराहट और अफरातफरी का माहौल.

default

लोगों ने जैसे ही भूकंप के झटके महसूस किए वे अपने घरों से बाहर निकल आए. इमारतों के गिरने से रास्ता जाम हो गया है और मलबे में कई वाहन दब गए हैं. शहर के ज्यादातर हिस्सों में बिजली आपूर्ति ठप हो गई है और सड़कों पर टूटी खिड़कियों के शीशे फैले हुए हैं. घरों में सामान के गिरने से कुछ लोगों को हल्की चोटें भी आई हैं. रक्षा मंत्रालय ने कहा है कि राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन को सक्रिय कर दिया गया है.

रक्षा मंत्रालय के मुताबिक कई इलाकों में भारी नुकसान होने की खबर है. भूकंप जिस समय आया उस समय सड़कों पर ज्यादा लोग मौजूद नहीं थे नहीं तो जान माल की हानि ज्यादा हो सकती है. शुरुआत में भूकंप की तीव्रता 7.4 मापी गई थी और यह स्थानीय समयानुसार सुबह 4.35 पर आया. इसका केंद्र क्राइस्टचर्च से 30 किलोमीटर दूर जमीन के 16 किलोमीर नीचे था.

स्थानीय निवासी कोलीन सिंपसन ने स्टफ वेबसाइट को बताया, "हे ईश्वर, दुकानों की एक पूरी कतार भूकंप में मेरे सामने तबाह हो गई." पुलिस ने शहर के केंद्रीय इलाके को बंद कर दिया है क्योंकि आशंका है कि असामाजिक तत्व दुकानों में लूटपाट कर सकते हैं. पुलिस ने लोगों से घर में ही रहने की अपील की है. पुलिस इंस्पेक्टर माइक कोलमेन ने कहा, "सड़कों को बड़े पैमाने पर नुकसान पहुंचा है. गैस लीक होने की खबर है, पानी की पाइपलाइन भी क्षतिग्रस्त हुई हैं. इस समय घर से बाहर निकलना सुरक्षित नहीं है."

समुद्र तट के पास वाले हिस्सों से लोग सुरक्षित स्थानों के लिए जा रहे हैं क्योंकि उन्हें सूनामी लहरों का डर है. हालांकि सूनामी की चेतावनी जारी नहीं की गई है. भूकंप के झटके अब भी महसूस किए जा रहे हैं. क्राइस्टचर्च की आबादी करीब साढ़े तीन लाख है और आधी आबादी को बिजली फिलहाल नहीं मिल पा रही है. क्राइस्टचर्च के अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे को बंद कर दिया गया है और साउथ आइलैंड की तरफ रेल सेवा भी रोक दी गई है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: ए जमाल

DW.COM

WWW-Links