1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

न्यूजीलैंड के खिलाफ टीम इंडिया का अहम मैच

नो बॉल विवाद, दो हार, मीडिया के निशाने पर, मौसम की फिक्र, गेंदबाजी के बाद बल्लेबाजी की चिंता और करो या मरो जैसी स्थिति. दांबुला में भारत को बुधवार को न्यूजीलैंड से भिड़ना है और फाइनल में जगह बनाने के लिए मैच जीतना ही है.

default

रैना, धोनी पर दारोमदार

तीन टीमों के वनडे टूर्नामेंट में सबसे निचले पायदान पर जगह बनाए टीम इंडिया को सबसे ज्यादा फिक्र मौसम की होगी. खराब चल रहे मौसम के बीच दांबुला में अगर बारिश हो गई तो सारा खेल खत्म. भारत को न्यूजीलैंड के साथ अंक बांटने नहीं हैं, छीनने हैं.

Cricket West-Indien

और अगर मैच होता है, तो बल्लेबाजी की चिंता कप्तान महेंद्र सिंह धोनी पर साफ साफ दिखेगी, जिनकी टीम ने पहले मैच में न्यूजीलैंड के खिलाफ 88 पर घुटने टेक दिए थे और पिछले मैच में 103 पर आत्मसमर्पण कर दिया था.

ले देकर बल्लेबाजी का जिम्मा एक बार फिर वीरेंद्र सहवाग के कंधों पर ही होगा, जो शायद दांबुला के रंगागिरी विकेट को थोड़ा बहुत समझ गए लगते हैं. टीम इंडिया की सबसे बड़ी मुश्किल मध्यक्रम का लड़खड़ाना है, जो सचिन तेंदुलकर की गैर मौजूदगी में कुछ नहीं कर पा रहा है.

दिनेश कार्तिक, रोहित शर्मा और विराट कोहली अब तक कागज के शेर साबित हुए हैं और इस सीरीज में तीनों ही युवा बल्लेबाज बुरी तरह फ्लॉप रहे हैं. खुद कप्तान धोनी भी बल्ले से कोई कमाल नहीं दिखा पाए हैं. लेकिन मिडल ऑर्डर में युवराज सिंह ने फॉर्म में वापसी के संकेत दिए हैं. दरअसल उन्हें लय में आना जरूरी भी है क्योंकि लगातार खराब प्रदर्शन से उनके भविष्य पर सवाल उठ रहे हैं. पिछले मैच में युवी ने 64 गेंदों पर संघर्ष करते हुए 38 रन की पारी खेली.

धोनी ने न्यूजीलैंड के खिलाफ मैच को बेहद गंभीरता से लेते हुए कहा, "अगला मैच हमारे लिए सेमीफाइनल जैसा होगा. हमें उसमें अच्छा करना होगा. नहीं तो बोरिया बिस्तर बांध कर वापसी करनी होगी." पिछले मैच में श्रीलंका के हाथों भारत बुरी तरह आठ विकेट से हार गया था.

जहां तक गेंदबाजी का सवाल है, तो कहा जाता रहा है कि इसमें धार नहीं है. लेकिन इस सीरीज में तो गेंदबाजों ने ही कमाल दिखाया है. आशीष नेहरा और प्रवीण कुमार ने कुछ अच्छी गेंदें फेंकी हैं और भारत के लिए वक्त पर विकेट जुटाए हैं. इशांत शर्मा भी धीरे धीरे लय में लौट रहे हैं. हरभजन सिंह को इस सीरीज में आराम दिया गया है. उनकी जगह प्रज्ञान ओझा गेंद को अच्छी स्पिन दे रहे हैं.

जहां तक न्यूजीलैंड का सवाल है, पहले मैच में भारत को 200 से शिकस्त देने के बाद टीम पूरे आत्मविश्वास से दांबुला ग्राउंड पर उतरेगी. उसके पास सात अंक हैं, जबकि भारत के पास पांच. अगर मैच नहीं हो पाता है तो अंक बांट कर न्यूजीलैंड आराम से फाइनल में जगह बना सकता है. लेकिन अगर मैच खेला जाता है तो न्यूजीलैंड को भी फाइनल में पहुंचने के लिए जीत हासिल करनी होगी क्योंकि भारत ने एक मैच में बोनस अंक जुटा रखा है.

न्यूजीलैंड ने भारत को हराने के बाद दूसरा मैच मेजबान श्रीलंका के हाथों गंवा दिया था. टीम एक बार फिर कप्तान रॉस टेलर पर भरोसा करेगी, जिन्होंने भारत के खिलाफ 95 रन की पारी खेली थी.

हाल के दिनों में श्रीलंका में खेले गए वनडे मैचों में भारत ने अच्छा प्रदर्शन किया है. उसने एशिया कप भी जीता है.

रिपोर्टः पीटीआई/ए जमाल

संपादनः ए कुमार

DW.COM

WWW-Links