नोकिया को खरीदेगा माइक्रोसॉफ्ट | दुनिया | DW | 03.09.2013
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

नोकिया को खरीदेगा माइक्रोसॉफ्ट

दुनिया की नंबर एक मोबाइल फोन कंपनी नोकिया बिक रही है. स्मार्टफोन बाजार में करारा झटका झेलने के बाद फिनलैंड की कंपनी ने अपनी मोबाइल यूनिट दिग्गज सॉफ्टवेयर कंपनी माइक्रोसॉफ्ट को बेचने का एलान किया है.

अमेरिकी कंपनी माइक्रोसॉफ्ट नोकिया की मोबाइल फोन यूनिट को 5.4 अरब यूरो में खरीद रही है. सौदे के साथ ही नोकिया पूरी तरह मोबाइल फोन बाजार से बाहर हो जाएगा. करार के तहत नोकिया माइक्रोसॉफ्ट को अपने पेटेंटों का 10 साल का नॉन एक्सक्लूसिव लाइसेंस देगा. नेटवर्क और सेवा संबंधी ढांचे के मामले में भी नए मालिक को मदद दी जाएगी.

बीते चार-पांच साल से बुरा दौर देख रही कंपनी नोकिया ने सौदे का एलान करते हुए कहा, "ये नोकिया और उसके शेयरधारकों के लिए सबसे अच्छा रास्ता है."

इस एलान के साथ ही कंपनी ने नोकिया मोबाइल यूनिट के शीर्ष अधिकारी स्टीफन एलॉप की भी छुट्टी कर दी. स्टीफन 2010 में माइक्रोसॉफ्ट छोड़कर नोकिया से जुड़े थे. उम्मीद थी कि उनके चीफ एक्जीक्यूटिव बनने से नोकिया के पुराने दिन लौट आएंगे, लेकिन ऐसा हुआ नहीं.

मोबाइल फोन की बात आते ही नोकिया एक जज्बाती नाम बन जाता है. नोकिया 3310, 3315 या नोकिया 2100, ये ऐसे मॉडल हैं जिनके साथ लाखों लोगों ने पहली बार मोबाइल फोन का इस्तेमाल करना सीखा. जब तक स्मार्टफोन बाजार में नही आए थे, नोकिया का राज रहा. बाजार में उसके हर रेंज के फोन थे. लगातार 14 साल तक मोबाइल फोन बाजार में एकछत्र राज करने के बाद 2012 में पहली बार नोकिया को ब्रांड के लिहाज से कोरियाई कंपनी सैमसंग ने पीछे कर दिया.

Taiwan Microsoft Logo auf der Computex Messe in Taipei

माइक्रोसॉफ्ट का होगा नोकिया

असल में 2008 के बाद स्मार्टफोन तकनीक में जबरदस्त इजाफा हुआ. वक्त बीतने के साथ एक तरफ महंगे एप्पल और ब्लैकबेरी थे, तो दूसरी तरफ हर रेंज वाले सैमसंग के स्मार्टफोन. नोकिया बदलते बाजार को भांप न सका, कदम उठाने में बहुत देर हो गई और कंपनी तकनीकी रूप से भी पिछड़ गई.

माइक्रोसॉफ्ट के साथ सौदे पर आधिकारिक मुहर लगते ही नोकिया के 32,000 कर्मचारी अमेरिकी कंपनी में चले जाएंगे.

स्मार्टफोन का बाजार हर साल 78 फीसदी की दर से बढ़ रहा है. फिलहाल गूगल, एप्पल और सैमसंग जैसी कंपनियां ही इसका फायदा उठा पा रही है. सॉफ्टवेयर कंपनी माइक्रोसॉफ्ट के पास आउटलुक एक्सप्रेस, एमएस वर्ड, एमएस ऑफिस, एक्सेल, स्काइप, एमएसएन और विंडोज जैसी सुविधाएं हैं. असल में माइक्रोसॉफ्ट को भी गूगल से कड़ी चुनौती मिल रही है. इस चुनौती से निपटने के लिए माइक्रोसॉफ्ट को स्मार्टफोन बाजार के लिए कुछ अनूठा बनाना होगा. माना जा रहा है कि माइक्रोसॉफ्ट नोकिया से खरीदी गई मोबाइल फोन यूनिट में सारे प्रयोग करेगी. कंपनी की कोशिश होगी कि वो मोबाइल को स्मार्टफोन के साथ साथ पॉकेट पीसी बना दे.

ओएसजे/एएम (एएफपी, रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री