1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

नैनो चली नेपाल

टाटा की लखटकिया कार नैनो अपने पहले अंतरराष्ट्रीय सफर पर चल पड़ी है नेपाल की ओर. भारी कस्टम ड्यूटी के कारण भारत के पड़ोसी मुल्क में इसकी कीमत होगी साढ़े चार लाख रुपये. रतन टाटा को नैनो के लिए कैंब्रिज से मिला सम्मान.

default

नेपाल में नैनो

सबकुछ योजना के हिसाब से रहा तो अगले महीने नेपाल की सड़कों पर नैनो दौड़ने लगेगी. नेपाली कंपनी सिपार्डी जुलाई के अंत में पांच नैनों कारों से दुनिया की सबसे सस्ती कार के नेपाल सफर का आगाज कराएगी.

300 फीसदी कस्टम ड्यूटी के बाद सात लाख नेपाली रुपये में मिलने वाली नैनो नेपाल की सबसे सस्ती कार होगी. अब तक 1000 लोग नैनो के बारे में जानकारी जुटाने के लिए सिपार्डी के दफ़्तर आ चुके हैं. नेपाल में टाटा की कार बेचने वाली एजेंसी सिपार्डी के सीईओ शंभु प्रसाद दहल इस कोशिश में हैं कि किसी तरह कार की कीमत साढ़े छह लाख तक लाई जा सके. अब तक नेपाल में सबसे सस्ती कार मारूती सुजुकी है जो करीब 10 लाख नेपाली रुपये में मिलती है.

Tata Konzern Nano Auto Indien

दुनिया की सबसे सस्ती कार

इसी बीच नैनो बनाने और उसे लोगों तक पहुंचाने के लिए रतन टाटा को कैंब्रिज यूनिवर्सिटी ने सम्मान दिया है. रतन टाटा को डॉक्टरेट ऑफ लॉ की डिग्री का सम्मान देने के लिए प्रिंस फिलिप यूनिवर्सिटी आए. रतन टाटा को दिए सम्मान पत्र में लिखा गया है कि भारत जैसे देश में 65 फीसदी से ज्यादा लोगों के लिए कार खरीदना एक सपना है. रतन टाटा ने नैनो के रूप में दुनिया की सबसे सस्ती कार बनाकर इस सपने को साकार कर दिया है.

रिपोर्टः एजेंसियां/ एन रंजन

संपादनः महेश झा

संबंधित सामग्री