1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

नेतन्याहू की बातें पुरानी: ओबामा

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने इस्राएली प्रधानमंत्री बेन्यामिन नेतन्याहू के भाषण की आलोचना की. ओबामा ने ईरान के साथ परमाणु समझौता को बेहतर विकल्प बताया.

अमेरिकी संसद में इस्राएली प्रधानमंत्री नेतन्याहू के भाषण पर राष्ट्रपति ओबामा की प्रतिक्रिया अप्रत्याशित नहीं थी. जिस वक्त नेतन्याहू अमेरिकी संसद को संबोधित कर रहे थे, उस वक्त राष्ट्रपति ओबामा यूक्रेन संकट के लिए पहले से तय एक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में हिस्सा ले रहे थे.

वीडियो कॉन्फ्रेंस खत्म होने के बाद ओबामा ने इस्राएली प्रधानमंत्री की आलोचना की. ओबामा ने कहा कि नेतन्याहू पुराने तर्क दोहरा रहे हैं और कोई विकल्प भी मुहैया नहीं करा रहे हैं.

अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा, "जहां तक मैं कह सकता हूं, इसमें कुछ भी नया नहीं है. मुख्य मुद्दा यह है कि ईरान को परमाणु हथियार बनाने से कैसे रोका जाए, जो उसे बहुत ज्यादा खतरनाक बना देंगे, इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री ने कोई संभव विकल्प नहीं दिया."

अमेरिका की विपक्षी रिपब्लिकन पार्टी ने नेतन्याहू के भाषण का गर्मजोशी से स्वागत किया. ज्यादातर रिब्लिकन सांसदों ने इस्राएली नेता के लिए खड़े होकर तालियां बजाईं.

Washington Obama Ashton Carter PK

संसद में नहीं गए ओबामा

दुखी हुए डेमोक्रैट

नेतन्याहू अमेरिकी संसद के स्पीकर जॉन बोएह्नर के न्योते पर संसद को संबोधित करने के लिए आए. ओबामा की डेमोक्रैट पार्टी इससे नाराज है. पार्टी के मुताबिक इस न्योते को लेकर बोएह्नर ने व्हाइट हाउस के साथ मशविरा नहीं किया और ऐसा करना कूटनीतिक प्रोटोकॉल का उल्लंघन है.

हाउस और सीनेट के चार दर्जन से ज्यादा डेमोक्रैट सांसद पहले ही नेतन्याहू के भाषण का बहिष्कार कर चुके थे. हालांकि इस दौरान संसद में डेमोक्रैट सांसद नैन्सी पेलोसी मौजूद रहीं. नेतन्याहू के भाषण पर उन्होंने कहा, "अमेरिका की खुफिया तंत्र की तौहीन करना हैरान करने वाला है."

तेहरान के साथ समझौता

दूसरी ओर अमेरिका के विदेश मंत्री जॉन केरी और ईरानी विदेश मंत्री जावेद जरीफ के बीच स्विट्जरलैंड में परमाणु समझौते पर बातचीत जारी है. अमेरिका ने ईरान से कहा है कि वो परमाणु कार्यक्रम को कम से कम 10 साल तक पूरी तरह बंद करे.

अमेरिका, ब्रिटेन, जर्मनी, रूस, फ्रांस और चीन को उम्मीद है कि इस महीने के अंत तक तेहरान के साथ समझौते का अंतरराष्ट्रीय खाका तैयार हो जाएगा.

यूरोपीय संघ की विदेश नीति प्रभारी फेडेरिका मोघेरिनी भी बातचीत में शामिल हैं. मंगलवार को मोघेरिनी ने चेतावनी देते हुए कहा कि ईरान के साथ समझौते को लेकर डर फैलाना मददगार नहीं होगा.

नेतन्याहू का तर्क

USA Washington Rede Benjamin Netanjahu Kongress

नेतन्याहू का संबोधन

इससे पहले नेतन्याहू ने कहा कि तेहरान के साथ परमाणु समझौता करने का मतलब है "बम तक पहुंचने के लिए ईरान का रास्ता साफ करना." इस्राएली प्रधानमंत्री ने ईरान के साथ व्हाइट हाउस के प्रस्तावित परमाणु समझौते की कड़ी आलोचना की. उन्होंने इसे "बेहद खराब समझौता" बताया और कहा कि इससे इस्राएल को खतरा है.

नेतन्याहू इस्राएल में संसदीय चुनाव से दो हफ्ते पहले अमेरिका आए. विरोधियों का आरोप है कि नेतन्याहू ने चुनावी फायदा उठाने के लिए अमेरिकी संसद को संबोधित किया. इसके जवाब में नेतन्याहू ने कहा, "यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि कुछ लोगों को मेरा यहां होना राजनीति से प्रेरित लगता है."

समझौते का विरोध करते हुए उन्होंने कहा, "अंतरराष्ट्रीय पर्यवेक्षकों की निगरानी में ईरान को परमाणु ढांचा खड़ा करने की अनुमति देने वाले करार से दुनिया के सबसे खतरनाक इलाके में परमाणु हथियारों की होड़ शुरू हो जाएगी." इस्राएली प्रधानमंत्री ने अमेरिकी संसद से कहा कि ऐसा ही समझौता उत्तर कोरिया से करने की कोशिश की गई थी जो नाकाम रही.

ओएसजे/आरआर (एपी, डीपीए, एएफपी, रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री