1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

नीतीश के साथ बैठक में नहीं जाएंगे मोदी

बिहार में बीजेपी और जेडीयू के बीच खाई चौड़ी होने के आसार. उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ कार्यक्रम में शामिल होने से इनकार किया. शनिवार को नीतीश ने नरेंद्र मोदी को लौटाई बाढ़ सहायता राशि.

default

बिहार में भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और राज्य के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी अचानक टकराव की मुद्रा में आ गए हैं. सुशील मोदी को नीतीश कुमार के साथ पटना में विश्वास यात्रा के सिलसिले में एक बैठक में हिस्सा लेना था. लेकिन उन्होंने इस बैठक में शामिल नहीं होने का फैसला किया है.

Nitish Kumar, Ministerpräsident Bihar mit BJP-Politiker Kalraj Mishra

बिहार के उप मुख्यमंत्री ने कहा, "मैं नीतीश कुमार के साथ उस बैठक में शामिल नहीं होना चाहता. गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी से मिली बाढ़ सहायता राशि अचानक लौटा कर नीतीश ने अजीब रुख का परिचय दिया है."

सुशील कुमार मोदी ने अपने गठबंधन सहयोगी नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए कहा कि विकास को वह बेहद गंभीरता से लेते हैं और कोसी बाढ़ पीड़ितों के लिए मदद राशि पर राजनीति नहीं करना चाहते.

एक दिन पहले ही बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुजरात के सीएम नरेंद्र मोदी से मिली 5 करोड़ रुपये की बाढ़ सहायता राशि लौटा दी थी. बीजेपी के सूत्रों ने न्यूज एजेंसी पीटीआई को बताया कि सुशील कुमार मोदी ने अपने फैसले से दिल्ली में पार्टी नेताओं को अवगत करा दिया है.

रिपोर्टों के अनुसार मोदी नीतीश कुमार के मनमाने ढंग से फैसले लेने से नाराज है क्योंकि उनके मुताबिक नीतीश बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं को विश्वास में लिए बिना ही फैसले कर रहे हैं.

बीजेपी का कहना है कि नीतीश कुमार को बाढ़ सहायता राशि लौटाने के फैसले पर फिर से विचार करना चाहिए क्योंकि यह सहायता किसी एक व्यक्ति की ओर से नहीं दी गई थी बल्कि राज्य की जनता की ''गाढ़ी कमाई'' का पैसा है. हालांकि नीतीश कुमार ने शनिवार को यह कर विवाद शांत करने का प्रयास किया कि सहायता राशि लौटाने का फैसला वह एक हफ्ता पहले ही कर चुके थे.

नरेंद्र मोदी ने नीतीश सरकार को बाढ़ से निपटने के लिए जो मदद दी उसका प्रचार एक विज्ञापन में किया है और नीतीश इससे चिढ़े हुए हैं. नीतीश ने अपनी नाराजगी छुपाई भी नहीं है और उन्होंने कहा है कि इस तरह सहायता का प्रचार करना असभ्यता है. कुछ दिन पहले भन्नाए नीतीश कुमार ने बीजेपी नेताओं के साथ रात्रिभोज का कार्यक्रम भी स्थगित कर दिया था.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: ए जमाल

संबंधित सामग्री