1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

नितिन गर्ग की हत्या में मंशा नस्लवादी नहीं: पुलिस

ऑस्ट्रेलिया की पुलिस ने नितिन गर्ग की हत्या के मामले में एक 15 साल के लड़के को गिरफ्तार किया. इसके बाद वह थोड़े समय के लिए बाल अदालत में पेश हुआ. उस पर हत्या का आरोप लगाया गया है.

default

पुलिस ने कहा है कि मामले में आगे जांच चल रही है. इंस्पेक्टर बर्नी एडवर्ड ने कहा, "अब तक की जांच के हिसाब से हत्या का कारण नस्लवादी भावना नहीं था. ये बहुत साफ है कि ये क्यों हुई और कैसे हुई. मैं इसकी मंशा पर अटकलें नहीं लगाना चाहता."

विक्टोरिया पुलिस के प्रवक्ता ने बताया कि जांचकर्ताओं ने और भी लोगों से पूछताछ की है. गिरफ्तारी के बारे में नितिन गर्ग के परिवार को सूचना दे दी गई है.

दो जनवरी को स्थानीय समय के हिसाब से रात साढ़े नौ बजे 21 साल के नितिन गर्ग को यैरविले के हंगरी जैक आउटलेट फास्ट फूड रेस्टोरेंट में काम के लिए जाते समय किसी ने चाकुओं ने गोद दिया था. वह ट्रेन स्टेशन से उतर कर मेलबर्न पश्चिम के इस रेस्टोरेंट में काम करने के लिए जा रहा था. पुलिस को आरोपी का अभी तक कोई सुराग नहीं मिला था.

पुलिस ने हत्या में नस्लवादी इरादे होने से इनकार किया था और कहा था कि ये काम किसी गैंग का लगता है.

ऑस्ट्रेलिया में भारतीयों पर हमलों की घटनाओं के दौरान नितिन गर्ग की हत्या, ऑस्ट्रेलिया में भारतीय छात्रों और भारत के लिए एक कड़ा झटका थी. भारत सरकार ने इस पर गहरा आक्रोश व्यक्त किया था.

भारत के विदेश मंत्री एसएम कृष्णा ने गर्ग की हत्या को 'मानवता पर घोर अपराध' बताया था और चेतावनी दी थी कि इस तरह की घटनाओं के कारण ऑस्ट्रेलिया की सुरक्षित देश की छवि खत्म हो जाएगी. कृष्णा ने कहा, "निश्चित ही द्विपक्षीय संबंधों पर इसका असर पड़ेगा".

ऑस्ट्रेलिया में 90,000 भारतीय पढ़ाई कर रहे हैं और मेलबर्न उनका सबसे पसंदीदा शहर है.

रिपोर्टः एजेंसियां/आभा मोंढे

संबंधित सामग्री