1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

नागपुर में कीवियों पर गेंदबाजों का कहर

श्रीसंत की धार ईशांत की रफ्तार प्रज्ञान के वार और भज्जी की फुंफकार के आगे मेहमान टीम के पांव उखड़ गए और 51 पर 5 विकेट खोने वाले कीवी पूरे दिन में बस 148 रन ही बना सके और वह भी सात खिलाड़ियों के आउट होने पर.

default

नागपुर के विदर्भ स्टेडियम में दिन की शुरूआत अच्छी नहीं रही और बारिश के कारण खेल देर से शुरु हुआ. बहरहाल टॉस जीत कर मैच में बढ़त लेने की गरज से कप्तान वेटोरी ने पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया. टीम के खाते में सिर्फ 11 रन ही जुड़े थे कि श्रीसंत ने छठे ओवर में गुप्तिल को विकेट के पीछे खड़े धोनी के हाथों में कैच करा दिया. दूसरी छोर पर मौजूद मैकिंटोश ने टेलर के साथ मिल कर पांच और रन जोड़े की नई गेंद के साथ श्रीसंत की धार का कहर फिर टूटा और गिल्लियां उड़ गईं.

Cricket Test Series zwischen Indien und Neuseeland 2

उल्टा पड़ा फैसला

इसके बाद आए राइडर ने टेलर के साथ संभल कर खेलना शुरु किया. न्यूजीलैंड का स्कोर 42 पर जैसे ही पहुंचा ईशांत की रफ्तार ने अपना जलवा दिखाया और टेलर एलबीडब्ल्यू से आउट हो गए. उनकी जगह लेने के लिए पहले ही टेस्ट मैच में शतक जमाने वाले विलियम्सन आए लेकिन खाता खोलने के पहले ही प्रज्ञान ने उन्हें सहवाग के हाथों कैच करा दिया. इसके बाद कप्तान वेटोरी भी महज तीन रन बनाकर ईशांत के शिकार बने. इन सबके बीच कोई टिका रहा तो वो थे राइडर. बाएं हाथ के बल्लेबाज जेसी राइडर ने 113 गेंदे खेल कर 59 रन बनाए और वो आज के टॉप स्कोरर रहे हालांकि उन्हें भी हरभजन ने मैच के 47वें ओवर में रैना के हाथों कैच करा दिया. दिन का खेल खत्म होने तक मैक्कुलम 34 और साउदी 7 रन बना कर क्रीज पर टिके हुए थे.

भारत की तरफ से सबसे सफल रहे श्रीसंत जिन्होंने महज 20 रन देकर 2 खिलाड़ियों को आउट किया. श्रीसंत, प्रज्ञान को भी दो दो विकेट मिले जबकि हरभजन ने केवल एक खिलाड़ी को आउट किया. भारत दौरे पर आई न्यूजीलैंड की टीम के साथ ये तीसरा और आखिरी टेस्ट है. पहले दो टेस्ट ड्रॉ होने के कारण सीरीज की हार जीत के फैसले का दारोमदार अब इसी मैच पर है.

Pragyan Ojha

प्रज्ञान ओझा

पिछले मैच में लचर रही टीम इंडिया की गेंदबाजी आज पूरे शबाब पर थी और ऐसा लग रहा था कि कप्तान धोनी के एक दिन पहले दिए बयान को ध्यान में रख कर मैदान में उतरी थी. धोनी ने कहा था कि गेंदबाजों को अच्छा प्रदर्शन करना होगा. हालांकि जहीर खान की गैरमौजूदगी में इस बात के आसार कम ही लग रहे थे कि गेंदबाजी में दम होगा. शायद यही वजह थी कि कप्तान वेटोरी ने पहले बल्लेबाजी करने की सोची पर कम से कम पहली पारी के लिए तो उनका फैसला उल्टा पड़ ही गया.

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

संपादनः एस गौड़

DW.COM

WWW-Links