1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

नस्ली फब्तियों का मारा मैड्रिड

रियाल मैड्रिड के खिलाड़ियों को फुटबॉल के दौरान सबसे ज्यादा नस्लभेदी टिप्पणियों का सामना करना पड़ा है. बुधवार को किंग्स कप के सेमीफाइनल मैच में खिलाड़ी डैनियल एल्वेस ने बंदर की फब्ती कसे जाने की शिकायत की.

एल्वेस ने गुरुवार को कहा कि नस्लवादी वार से बचने के मामले में स्पेन खेल हार चुका है. उन्होंने उन क्लबों के लिए भी कड़ी सजा की पैरवी की जिनके फैन्स दूसरी टीम के खिलाड़ियों पर गंदी फब्तियां कसते हैं.

सालेखोन ने शनिवार को होने वाले ला लीगा के मैच से पहले कहा, "पूरे इतिहास में अगर कोई क्लब है जिसने सबसे ज्यादा बदतमीजियां झेली हों तो वह रियाल मैड्रिड है. हम हमेशा बहुत मुश्किल स्टेडियमों में खेलने जाते हैं और कई खिलाड़ी थे और अभी भी हैं जिन पर कई बार नस्लभेदी टिप्पणियां की गई हैं. यह एक ऐसा मुद्दा है जिसे आप नियंत्रित नहीं कर सकते. यह स्पेन में और दूसरे देशों में भी होता है. यह थोड़ा दुर्भाग्यपूर्ण है."

रॉयटर्स समाचार एजेंसी के रिपोर्टर का दावा है कि बुधवार को एक मैच में कुछ रियाल फैन्स ने एल्वेस को लक्षित कर कई बार बंदर कहा. हालांकि रेफरी ने मैच रिपोर्ट में इस बारे में कुछ नहीं कहा है.

हाल से समय में यूरोपीय फुटबॉल में कई नस्लभेदी टिप्पणियों वाले मामले हुए हैं, जबकि यूएफा पूरी कोशिश कर रही है कि यह बुरी परंपरा खत्म हो जाए.

एसी मिलान के मिडफील्डर केविन प्रिंस बोएटांग इटली के लोअर डिविजन साइड प्रो पैट्रिया के साथ खेल रहे थे. तब घरेलू फैन्स के प्रदर्शन के कारण मैच खत्म कर दिया गया था. कालेखोन ने कहा, "हमने देखा कि इटली में बोएटांग पर नस्लभेदी फब्तियां कसी गई. यह चिंताजनक मुद्दा है. यह अच्छा नहीं है कि इस तरह की बदतमीजी होती है. और देखते हैं कि शायद यह कभी पूरी तरह खत्म हो जाएं."

रिपोर्टः एएम/एजेए (रॉयटर्स)

DW.COM

WWW-Links