1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मंथन

नया ट्रेंड है वीकेंड टूरिज्म

यूरोप में सिटी टूर का ट्रेंड बढ़ रहा है. शहरों को सैलानी मिल रहे हैं और सैलानी खुली सीमाओं, सस्ती टिकटों और किफायती होटलों का फायदा उठा रहे हैं. लोगों को रोजगार मिल रहा है.

वीकेंड पर अपने शहर के पास की किसी खूबसूरत जगह पर घूमने का प्लान बनाना बहुत आम बात हो गयी है. नयी जगह घूमने जाने के लिए लंबी छुट्टियों का इंतजार अब कौन करे. भारत हो या यूरोप लोग पास के सुंदर शहरों में जाना पसंद करते हैं. शहर घूमने जाने का फायदा यह कि ना केवल वहां कुछ नया देखने को मिलता है बल्कि शॉपिंग और खाने पीने के शौकीन भी खुश हो जाते हैं. लंदन और पेरिस इस मामले में सबके पसंदीदा रहे हैं लेकिन फ्लाइट्स के सस्ते होने और होटल पोर्टल के आने से कई दूसरे जाने माने शहरों तक भी काफी लोग पहुंच रहे हैं.

पीसा की झुकी हुई मीनार देख हैरान होना. बोट पर सवार होकर एम्स्टर्डम की सैर. बर्लिन के क्लबों में रातों को रौशन करना. अब तो जर्मन शहर हैम्बर्ग में एल्बे फिलहारमोनी भी बहुत बड़ा आकर्षण बन गया है. आसानी से मिलने वाले टिकट और होटलों में जगह ने पर्यटकों के फैसले को आसान बना दिया है. बुकिंग ऑनलाइन होती है और यूरोप में वीजा की दिक्कत नहीं होने के कारण लोग अक्सर लास्ट मिनट में फैसला करते हैं कि उन्हें कहां जाना है. पर्यटन विशेषज्ञ उलरिष राइनहार्ट जानते हैं कि पर्यटन किस ओर बढ़ रहा है. "शहरों का टूर हाल के दस-पंद्रह सालों में खूब लोकप्रिय हो रहा है. हर साल ऐसे लोगों की तादाद बढ़ती जा रही है, जो केवल बड़े शहरों में ही नहीं बल्कि कई मझौले और छोटे शहरों में भी पहुंच रहे हैं. ऐसे ठिकाने यूरोप भर से पर्यटकों को अपनी ओर खींच रहे हैं."

लंदन और पेरिस अब भी अपनी शानदार इमारतों, रोमांटिक नदियों और महान इतिहास के कारण सबसे बड़े आकर्षण हैं. तमाम आतंकी हमलों या खतरों के बावजूद टूरिस्ट यहां पहुंचते हैं. शहर भी इस ट्रेंड का फायदा पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए उठा रहे हैं और इससे उनकी अच्छी खासी आमदनी हो रही है. पर्यटक भी आ रहे हैं क्योंकि म्यूजियम हो, होटल या पार्टी करने के लिए रेस्तरां, सब कुछ सिटी सेंटर में होता है. दो दिन में इन सब का मजा लिया जा सकता है. अब तो पूर्वी यूरोप के कई शहर भी लोकप्रिय हो रहे हैं. बुडापेस्ट अपनी अद्वितीय वास्तुकला और गर्म सोतों के लिए मशहूर है.

प्रोफेसर उलरिष राइनहार्ट कहते हैं, "ऐसे कई पूर्वी यूरोपीय शहर इस समय "इन" माने जाने लगे हैं. जैसे ग्दांस्क से लेकर बेलग्रेड, बुडापेस्ट और बुखारेस्ट तक. ये वो शहर हैं जहां युवा पीढ़ी के लोग बहुत ज्यादा जाने लगे हैं. कारण यह है कि एक तो पर्यटक यहां काफी कुछ कर सकते हैं और दूसरे जब इतने सारे युवा कहीं जा रहे हैं तो बाकी भी वैसा करना चाहते हैं."

ट्रैवल पत्रिका कॉन्डे नास्ट की मानें, तो अमेरिकी पर्यटक ऐसे नहीं हैं. उन्हें अब भी इटली की सांस्कृतिक केंद्र फ्लोरेंस ही सबसे ज्यादा पसंद आता है. रोम में पर्यटकों को वेस्पा किराये पर ले कर पुराने शहर की संकरी गलियों में घूमना खूब भाता है. बुडापेस्ट की गलियों और डेन्यूब नदी पर चलने वाली एम्फीबियन बस से शहर की सैर का आनंद भला कौन भूल सकता है. भविष्य में ऐसे यूरोपीय मेट्रो शहरों में पर्यटकों की संख्या और बढ़ने वाली है.

(जर्मनी के 10 पार्टी वाले शहर)

रिपोर्ट: सुजाने डौस/एमजे

 

DW.COM

संबंधित सामग्री