1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

नत्थी वीजा नीति पर ढीला पड़ा चीन

चीनी राष्ट्राध्यक्ष वेन जियाबाओ की भारत यात्रा से ठीक पहले इस तरह के संकेत मिले हैं कि चीन कश्मीर पर नत्थी वीजा के बारे में अपनी नीति बदल सकता है. भारत के लिए यह बड़ी कूटनीतिक जीत होगी.

default

मनमोहन सिंह और वेन जियाबाओ

चीन भारतीय कश्मीर के लोगों को एक अलग कागज पर वीजा देता है जो पासपोर्ट के साथ नत्थी कर दिया जाता है. इससे भारत के उस दावे को चुनौती मिलती है कि कश्मीर उसका अभिन्न अंग है. इसीलिए भारत नत्थी वीजा को लेकर चीन की नीति पर लगातार अपनी आपत्ति दर्ज कराता रहा है. भारतीय नेता पिछले दिनों में कई बार चीनी पक्ष से मिले और नत्थी वीजा पर अपना एतराज दर्ज कराया. अक्तूबर में आसियान सम्मेलन में जब भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने वियतनाम में वेन जियाबाओ से मुलाकात की थी, तब भी यह मुद्दा उठाया गया था.

भारत की इन कोशिशों का असर नजर आने लगा है. बीते कुछ हफ्तों में चीन के दूतावास ने कम से कम तीन कश्मीरी लोगों को नत्थी वीजा के बजाया मोहर लगाकर वीजा दिया है. इनमें गायिका तान्या गुप्ता शामिल हैं जो पिछले महीने ग्वांगजो एशियाड के समापन समारोह में हिस्सा लेने के लिए चीन गई थीं.

भारतीय अधिकारियों ने हाल ही में कहा था कि बीजिंग ने उन्हें नत्थी वीजा की नीति पर विवाद को हल करने का भरोसा दिलाया है और इससे दोनों पक्षों के संबंधों पर असर नहीं पड़ेगा. हाल के चीन के कुछ कदम इशारा करते हैं कि चीन ने अपनी नीति में ढील देनी शुरू कर दी है.

पड़ोसी मुल्क के इस कदम को भारत में द्विपक्षीय संबंधों की बेहतरी के रूप में देखा जा रहा है. खासतौर पर अब जबकि बुधवार को वेन जियाबाओ भारत दौरे पर आने वाले हैं, भारत चीन के इस रवैये को उत्साह के साथ स्वीकार कर रहा है.

हालांकि जब चीनी दूतावास के अधिकारियों से मोहर वाले वीजा जारी करने और नत्थी वीजा की नीति के बदलाव के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि उन्हें ऐसे किसी वीजा के जारी होने की जानकारी नहीं है.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः एन रंजन

DW.COM

WWW-Links