1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

नडाल और शारापोवा सन्न

दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी रफाएल नडाल को यूक्रेन के अलेक्जेंडर डोल्गोपोलोव ने हैरान किया. कुछ ऐसा ही हाल रूस की टेनिस स्टार मारिया शारापोवा का भी हुआ. इटली की युवा खिलाड़ी ने शारापोवा को लय में आने का मौका ही नहीं दिया.

इंडियन वेल्स मास्टर्स में कामिला गिओर्गी ने पांचवी वरीयता प्राप्त मारिया शारापोवा को पहले ही सेट में झटका दिया. इतालवी खिलाड़ी 6-3 से जीतीं. शारापोवा की गलतियों का और नए खिलाड़ी के खिलाफ उनके अति आत्मविश्वास का गिओर्गी ने खूब फायदा उठाया. पहला सेट गंवाते ही शारापोवा को अंदाज हो गया कि उनका सामना जोरदार खिलाड़ी से है. अगला सेट जीतकर शारापोवा ने गेम में लौटने की कोशिश की लेकिन गिओर्गी ने भी खेल को हाथ से फिसलने नहीं दिया.

79वीं वरीयता प्राप्त गिओर्गी पहली बार इस मुकाबले में खेल रही हैं. 6-3, 4-6, 7-5 की जीत के साथ अगले दौर में पहुंची इतालवी खिलाड़ी ने कहा, "मैं तो बस अपने ढंग से खेल रही थी और हो सकता है कि बाकी सेटों में मैंने ज्यादा जोर लगाया हो. मैंने ज्यादा आक्रामक गेम खेला." अब उनका मुकाबला अपने ही देश की फ्लाविया पेनेटा से होगा.

हार के बाद शारापोवा ने माना कि वो एक्शन में आ ही नहीं पाईं, "वो कुछ ऐसी हैं जो आपको लय में आने ही नहीं देती हैं."

हैरान करने वाला दूसरा नतीजा रफाएल नडाल का भी नाम अपने साथ लेकर आया. 2013 में इसी कोर्ट से विजेता बनकर निकले नडाल इस बार निराश होकर लौटे. पिछले महीने रियो दे जनेरो में नडाल ने जिस खिलाड़ी को हराया था, उसी ने राफा को बाहर कर दिया. मेन कोर्ट में यूक्रेन के अलेक्जेंडर डोल्गोपोलोव ने स्पेन के राफा को 6-3, 3-6, 7-6 (5) से मात दी.

Australian Open 2014 Nadal

राफा को भी तारे दिखे

दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी नडाल ने हार के लिए अपने खेल को जिम्मेदार ठहराया, "मुझे ये मैच जीतने के लिए काफी ब्रेक मिले लेकिन मैं बेसलाइन से इतना अच्छा नहीं खेल पाया कि मैं जबरदस्त सर्विस कर पाता. मैं प्वाइंट के लिए नहीं गया और बहुत सारी गलतियां भी मुझसे हुईं."

डोल्गोपोलोव ने जीत राजनीतिक संकट से जूझ रहे अपने देशवासियों के नाम की, "ये अच्छा है कि कुछ नतीजे आएं जिनके सहारे लोग थोड़ी देर कुछ भूलकर समाचारों में कुछ अच्छा देख सकें. कुछ देर के लिए उन्हें अपने देश पर गर्व करने का मौका मिले."

अन्य मुकाबलों में कोई अप्रत्याशित नतीजा नहीं आया. रोजर फेडरर, एंडी मरे और चीन की ली ना आसानी से चौथे दौर में पहुंचे हैं. रोजर फेडरर यह खिताब चार बार जीत चुके हैं.

ओएसजे/एमजे (एएफपी, एपी)