1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

नक्सली हमारे समाज का हिस्साः नीतीश

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का कहना है कि नक्सली समाज का हिस्सा हैं और उनसे निपटते समय उन्हें समाज में मिलाने के उपायों पर विचार किया जाना चाहिए. नीतीश के मुताबिक बलप्रयोग से स्थिति और खराब हो सकती है.

default

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने नक्सल प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्रियों की दिल्ली में बैठक बुलाई है. इसी बैठक में नीतीश कुमार ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया कि वह इस समस्या से निपटने के लिए सही कदम नहीं उठा रही है.

उन्हें समाज में मिलाने के उपायों पर जोर देते हुए नीतीश ने कहा, "नक्सली भी हमारे समाज का हिस्सा हैं लेकिन उन्हें बहका कर हिंसा के रास्ते पर ले जाया गया है."

बिहार के मुख्यमंत्री का कहना है कि सिर्फ बलप्रयोग से काम नहीं हो सकता है. उन्होंने कहा कि ऐसा करने पर वे अलग थलग हो जाएंगे और अपने अंदर नए हीरो तलाशने लगेंगे, फिर यह बीमारी नए सिरे से खड़ी हो सकती है.

Manmohan Singh

प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में हो रही है बैठक

कुमार का कहना है कि उनकी राज्य सरकार ने इस समस्या पर अपनी बात रखी थी और केंद्र सरकार से ज्यादा अर्धसैनिक बलों की तैनाती की मांग की थी. लेकिन उनकी बातें नहीं सुनी गईं. उन्होंने कहा, "पिछले कई सालों में बिहार में केंद्रीय अर्धसैनिक बलों की संख्या नहीं बढ़ी है. पिछले साल अक्तूबर 2009 में बैठक हुई थी और इस पर चर्चा हुई. दूसरे राज्यों को जवान मिले लेकिन बिहार को नहीं."

उनका कहना है कि राज्य में जवानों की ट्रेनिंग को भी बढ़ाने पर विचार किया जाना चाहिए. उनके मुताबिक समग्र विकास के जरिए ही नक्सली समस्या पर काबू पाया जा सकता है लेकिन बिहार जैसे राज्यों को इसके लिए केंद्र सरकार की सहायता की जरूरत है.

नीतीश का कहना है कि उनकी सरकार के पास सीमित कर्मचारी और संसाधन हैं फिर भी वह नक्सल समस्या को नियंत्रित रख पाने में कामयाब रहे हैं.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए जमाल

संपादनः आभा एम

संबंधित सामग्री